मंदिर में प्रवेश के लिए फिर सबरीमाला पहुंचीं महिलाएं, स्थिति तनावपूर्ण

तिरुवनंतपुरम। केरल के सबरीमाला मंदिर में एक बार फिर महिलाओं के प्रवेश को लेकर घमासान जारी है। रविवार को यहां महिलाओं के पहुंचने के बाद स्थिति तनावपूर्ण है। दर्शन के लिए पहुंची इन महिलाओं के खिलाफ अयप्पा के भक्त विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।
दूसरी ओर महिलाओं ने अपनी अपील में कहा कि वे मंदिर तक जाकर जल्द वापस आ जाएंगी। तनाव की स्थिति को देखते हुए पथानामथिट्टा जिले में धारा 144 को अब 27 दिसंबर तक के लिए बढ़ा दी गई है। किसी भी तरह की आशंका को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है। हालांंकि महिलाओं को अयप्पा के भक्तों के कड़े विरोध के बाद वापस लौटना पड़ा। कड़ी सुरक्षा के लिए पुलिस की टीम के साथ यह महिलाएं पंपा बेस कैंप से लौट गई हैं। पुलिस ने इसकी पुष्टि भी कर दी है।
सबरीमाला मंदिर में दर्शन के लिए पंपा बेस कैंप पर इकट्ठा हुईं महिलाओं के सामने भगवान अयप्पा के भक्तों ने प्रदर्शन किया।
महिलाओं के जत्थे में शामिल सेल्वी ने पुलिसकर्मियों पर महिलाओं को सुरक्षा प्रदान नहीं करने का आरोप लगाया है।
सेल्वी ने कहा, ‘हम लोग यहां सुबह 3.30 बजे ही पहुंच गए। पुलिस की तरफ से हमें सुरक्षा का आश्वासन मिला था पर अब हमें मंदिर की तरफ जाने के लिए सुरक्षा नहीं दी जा रही है।’
बता दें कि केरल में वार्षिक मंडला पूजा के आयोजन से पहले यहां भगवान अयप्पा मंदिर में भारी भीड़ देखी जा रही है। शुक्रवार को एक लाख से अधिक श्रद्धालु पहाड़ी मंदिर पहुंचे। हाल के दिनों में सबरीमला मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ इसलिए भी बढ़ी है क्योंकि पुलिस ने कुछ पाबंदियों में ढील दी है लेकिन निषेधाज्ञा अभी भी लागू है।
जानें, क्या है सबरीमाला विवाद
उधर, चेन्नै स्थित संगठन मनिथि की तरफ से करीब 30 महिलाओं के ग्रुप ने पिछले दिनों मंदिर में दर्शन को लेकर चुनौती दी थी। महिलाओं के इस ग्रुप के यहां पहुंचने से पहले ही तनाव की स्थिति देखने को मिली। रविवार सुबह कोट्टायम रेलवे स्टेशन के बाहर अयप्पा के भक्तों ने इन महिलाओं के खिलाफ नारेबाजी की।
27 दिसंबर को मंडला पूजा
मंदिर में प्रवेश के लिए महिलाओं का एक जत्था रविवार को पंपा बेस कैंप पहुंच गया। यहां विरोध के बीच महिलाओं ने प्रवेश के लिए अपील की। महिलाओं ने कहा, ‘हमें रास्ता दीजिए, हम मंदिर जाएंगे और जल्दी ही वापस लौट आएंगे।’
बता दें कि 41 दिवसीय व्रत के समापन की प्रतीक मंडला पूजा भगवान अय्यप्पा मंदिर में 27 दिसंबर को होगी।
महिलाओं की सुरक्षा को लेकर प्रशासन अलर्ट
दर्शन के लिए महिलाओं के पहुंचने की जानकारी के साथ ही प्रशासन यहां पहले से ही अलर्ट है। शनिवार को ही सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता कर लिया गया था। शनिवार को पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, न लोगों ने कोई विशेष सुरक्षा के लिए नहीं कहा है। जब आधार शिविर निलक्कल पहुंचेंगे और यदि कोई कानून और व्यवस्था की स्थिति उत्पन्न होगी तो हम उसी के मुताबिक निपटेंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *