अगर चीन ताइवान पर बल प्रयोग करता है तो आवश्यक कार्रवाई करेंगे: अमेरिका

ताइवान को लेकर अमेरिका ने चीन को सख्त चेतावनी दी है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि अगर चीन ताइवान पर यथास्थिति को बदलने के लिए बल का उपयोग करता है तो संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगी आवश्यक कार्रवाई करेंगे। ब्लिंकन की टिप्पणी बाइडन और चीनी नेता शी जिनपिंग के बीच एक नियोजित आभासी बैठक से पहले आई है।
न्यूयार्क टाइम्स द्वारा आयोजित एक मंच पर ब्लिंकन से पूछा गया था कि क्या चीन द्वारा हमले की स्थिति में संयुक्त राज्य अमेरिका ताइवान की रक्षा के लिए कदम उठाएगा। इसपर उन्होंने अमेरिकी बयानों को दोहराते हुए कहा कि वाशिंगटन की भूमिका यह सुनिश्चित करना है कि ताइवान के पास खुद की रक्षा करने के साधन हों, जैसा कि अमेरिकी कानून के तहत आवश्यक है।
ब्लिंकन ने कहा कि ताइवान में शांति और स्थिरता बनाए रखने के लिए हम अकेले नहीं हैं। क्षेत्र और उसके बाहर कई देश हैं, जो ताइवान पर किसी भी तरह की एकतरफा कार्रवाई को बरदास्त नहीं करेंगे और शांति और सुरक्षा बनाए रखने के लिए आवश्यक कदम उठाएंगे। हालांकि, ब्लिंकन ने यह नहीं बताया कि वह किस तरह की कार्रवाई का जिक्र कर रहे है।
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने पिछले महीने यह कहकर सबको चौका दिया था कि अगर चीन ने ताइवान पर हमला किया तो संयुक्त राज्य अमेरिका उसके बचाव में आएगा। हालांकि, यह अभी स्पष्ट नहीं किया कि संयुक्त राज्य अमेरिका हमला होने की स्थिति में कैसी प्रतिक्रिया देगा, लेकिन व्हाइट हाउस ने बयान के तुरंत बाद कहा था कि बाइडन अपनी नीति में बदलाव का संकेत नहीं दे रहे थे। यही नहीं कुछ विश्लेषकों ने उनकी टिप्पणियों को गलती बताते हुए खारिज कर दिया था।
दूसरी तरफ अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल के ताइवान दौरे के जवाब में चीनी सेना ने द्वीपीय राष्ट्र के पास सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया है। चीन के रक्षा मंत्रालय ने बिना विस्तृत जानकारी दिए मंगलवार को एलान किया कि ताइवान जलडमरूमध्य क्षेत्र में अभ्यास राष्ट्रीय संप्रभुता की रक्षा के लिए आवश्यक कदम है। अभ्यास का समय, उसका सटीक स्थान व उसमें बल की कौन सी टुकड़ियां हिस्सा ले रही हैं आदि के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *