20 ब्रांड को क्‍यों कोर्ट में घसीटने जा रही हैं बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु

देश की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने 20 ब्रांड के खिलाफ कोर्ट में कार्यवाही करने की बात कही है। इन ब्रांड ने सिंधु की इजाजत के बिना उनके नाम और फोटो का इस्तेमाल किया है।
P V Sindhu स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर भारत के लिए इतिहास रच दिया है। पीवी सिंधु लगातार दो ओलंपिक में मेडल जीतने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी बन गई हैं।
कौन से ब्रांड शामिल
PV Sindhu जिनके खिलाफ कार्यवाही करने जा रही हैं उनमें से 15 ब्रांड को कानूनी नोटिस पहले ही भेजे जा चुके हैं। हैपीडेंट, पान बहार और यूरेका जैसे ब्रांड भी कोर्ट ले जाए जा सकते हैं। फोर्ब्स, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, वोडाफोन आइडिया, एमजी मोटर, यूको बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, कोटक महिंद्रा बैंक, फिनो पेमेंट्स बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन बैंक और विप्रो लाइटिंग जैसे ब्रांड को भी लीगल नोटिस भेजा गया है।
ब्रांड के खिलाफ कार्यवाही
पीवी सिंधु इन ब्रांड के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के विकल्प खोज रही हैं। PV Sindhu ऐसा कदम इसलिए उठा रही हैं ताकि उनके नाम और फोटो का उपयोग मार्केटिंग उद्देश्य के लिए नहीं हो सके। पिछले कुछ साल में ऐसा ट्रेंड देखने में आया है कि कई ब्रांड ने मार्केटिंग के जरिए अपनी सोशल मौजूदगी बनाई है। इस दौरान ऐसा कई बार देखा गया कि ब्रांड किसी ट्रेंडिंग टॉपिक पर अपने विचार थोप देते हैं। इन ब्रांड में हैपीडेंट, पान बहार और यूरेका आदि शामिल है।
सिंधु की तस्वीर का यूज
दरअसल, इन ब्रांड ने सोशल मीडिया पर सिंधु के नाम और तस्वीर का इस्तेमाल करते हुए उन्हें ओलंपिक में मेडल जीतने पर बधाई दी है। सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए इस तरह के संदेश से यह समझ आता है कि ओलंपिक में सिंधु के मेडल जीतने के बदले यह ब्रांड अपनी विजिबिलिटी बढ़ाकर उसे अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करना चाहती हैं।
भारत में क्या हैं नियम?
सोशल मीडिया पर इस तरह के पोस्ट से आम लोगों में ऐसी छवि बनती है कि स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु और उस ब्रांड के बीच किसी तरह का समझौता हुआ है। लोगों के दिमाग में यह भी छवि बनती है कि पीवी सिंधु इस ब्रांड को प्रमोट कर रही है। इस टेक्निक को मोमेंट मार्केटिंग कहते हैं। पहले भी इस तरह की तकनीक कई ब्रांड यूज कर चुके हैं। भारतीय नियमों के अनुसार इस तरह सेलिब्रेटी की इजाजत के बिना सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने को अनफेयर ट्रेड प्रैक्टिसेज कहते हैं।
भारी जुर्माने का है प्रावधान
सोशल मीडिया पर किसी सेलिब्रिटी के नाम और उसकी तस्वीर का इस्तेमाल करते हुए पोस्ट डालने को ग्राहकों की रुचि को प्रेरित करने के हिसाब से उठाया गया कदम बताया जा सकता है। अगर कोई ब्रांड किसी सेलिब्रिटी की फोटो उसकी अनुमति के बिना इस्तेमाल करता है तो उस ब्रांड पर लाखों रुपये का जुर्माना भी लगाया जा सकता है। इस तरह के सोशल मीडिया पोस्ट ASCI के विज्ञापन दिशा-निर्देशों का भी उल्लंघन करते हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *