क्‍यों चर्चा में है भारत बायोटेक की संयुक्त प्रबंध निदेशक सुचित्रा ईला का ट्वीट

हैदराबाद। भारत बायोटेक की संयुक्त प्रबंध निदेशक सुचित्रा ईला का ट्वीट इस समय काफी चर्चा में है। उन्‍होंने हाल ही में अपने 50 कर्मचारियों के कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने की जानकारी देने वाला ट्वीट किया था। इस पर कुछ लोग उनकी तारीफों के पुल बांध रहे हैं तो कुछ आलोचना कर रहे हैं।
इनमें से कुछ लोगों का कहना है कि कोवैक्सीन लोगों की जिंदगी बचा रही है, जबकि कुछ ने सवाल किया कि कर्मचारियों को टीका क्यों नहीं लगाया गया। कोविड-19 रोधी टीके कोवैक्सीन की सप्‍लाई में रुकावट होने पर कुछ नेताओं की टिप्पणियों पर ईला ने बुधवार को ट्वीट किया था, ‘टीम के लिए यह सुनना बहुत दिल तोड़ने वाला है कि कुछ राज्य हमारे इरादों पर सवाल उठा रहे हैं। कोविड के कारण हमारे 50 कर्मचारी काम नहीं कर रहे हैं, फिर भी हम महामारी को फैलने से रोकने के लिए लगाए लॉकडाउन में आपके लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं।’
ट्विटर पर उठे सवाल
उनके ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए एक ट्विटर यूजर ने लिखा, ‘आपके 50 कर्मचारी कोविड-19 से संक्रमित कैसे हो गए? उन्हें टीका क्यों नहीं लगाया गया? साथ ही अस्थायी आधार पर और लोगों की भर्ती क्यों नहीं कर रहे?’
कई लोगों ने शुक्रिया कहा
ईला के ट्वीट को 13 मई को सुबह साढ़े दस बजे तक 9,373 लोगों ने ‘लाइक’ किया और 2,564 लोगों ने रीट्वीट किया। एक दूसरे शख्‍स ने लिखा, ‘आपको शुक्रिया कहना चाहते हैं। मेरे दादा-दादी 75 साल से अधिक उम्र के हैं और उन्होंने पांच हफ्ते पहले पहला टीका लगवाया, दो हफ्ते पहले दोनों कोविड से संक्रमित पाए गए। उन्हें केवल हल्का बुखार है, आज वे संक्रमित नहीं पाए गए, वे स्वस्थ हो रहे हैं और उन्हें कोई खास दिक्कत नहीं है।’
एक दूसरे यूजर ने लिखा, ‘भारत के हर कोने तक टीके पहुंचाने के लिए कड़ी मेहनत और प्रतिबद्धता के लिए शुक्रिया भारत बायोटेक।’ एक दूसरी ट्वीट में कहा गया, ‘अगर आप कहते हैं कि आपके कर्मचारी कोविड से बीमार है तो यह आपके टीके की क्षमता के बारे में बताता है।’
’18 राज्‍यों को मिली वैक्‍सीन’
ईला ने यह भी बताया कि 18 राज्यों को छोटी-छोटी खेप में कोवैक्सीन मिले हैं। हैदराबाद स्थित कंपनी आंध्र प्रदेश, हरियाणा, ओडिशा, असम, जम्मू कश्मीर, तमिलनाडु, बिहार, झारखंड और दिल्ली समेत 18 राज्यों को कोवैक्सीन की सप्‍लाई कर रही है। अन्य राज्य छत्तीसगढ़, कर्नाटक, तेलंगाना, त्रिपुरा, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *