जब एक किताब की दुकान में चुपचाप कुर्सी पर जाकर बैठ गए टीम इंडिया के कोच

नई दिल्‍ली। भारतीय टीम के कोच और द वॉल आफ टीम इंडिया के नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ का नाम जेहन पर आते ही उनकी सादगी की छवि छा जाती है। राहुल द्रविड़ क्रिकेट इतिहास का सबसे सुलझे हुए खिलाड़ियों में एक हैं। क्रिकेट के मैदान पर राहुल द्रविड़ को कभी किसी ने चिल्लाते, झल्लाते, गुस्साते हुए नहीं देखा होगा। वो हमेशा शांत स्वभाव के खिलाड़ी रहे हैं। ऐसा नहीं है कि सिर्फ मैदान के भीतर ही द्रविड़ ऐसे हों। मैदान के बाहर भी द्रविड़ एक आम इंसान की तरह रहते हैं।
सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर
सोशल मीडिया पर राहुल द्रविड़ की कई तस्वीरें घूम रही हैं। उस तस्वीर में दिख रहा है कि एक किताब की दुकान में द्रविड़ आराम से बैठे हुए हैं। उनकी सादगी देखकर लोग उनकी तारीफें कर रहे हैं। द्रविड़ इस वक्त भारतीय टीम के मुख्य कोच हैं। इसके बावजूद द्रविड़ बिना किसी प्रोटोकॉल के आराम से बैठे हुए हैं। इस दौरान कई लोग तो उनको पहचान ही नहीं पाए क्योंकि लोगों को यकीन ही नहीं हो रहा था कि राहुल द्रविड़ हो सकते हैं।
मास्क पहनकर टहल रहे थे द्रविड़
सोशल मीडिया पोस्ट के अनुसार राहुल द्रविड़ पूर्व खिलाड़ी गुंडप्पा विश्वनाथ की नई किताब पर बातचीत करने पहुंचे थे। जीआर विश्वनाथ अपनी नई किताब रिस्ट एश्योर्ड के बारे में बात करने के लिए मौजूद थे। कार्यक्रम के दौरान द्रविड़ मास्क पहनकर कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे और चुपचाप पीछे बैठ गए। वहां मौजूद लोगों तक को भनक नहीं हुई कि वहां पर राहुल द्रविड़ बैठे हैं। लोगों को जब ये पता चला तब कुछ लोग उनके पास पहुंचे और ऑटोग्राफ लिए।
लोगों को दिए ऑटोग्राफ
सोशल मीडिया पर तमाम यूजर्स उनकी तारीफ कर रहे हैं। काशी नाम के यूजर ने लिखा कि राहुल द्रविड़ मास्क लगाकर अकेले टहल रहे थे। उन्होंने राम गुहा का अभिवादन किया। इसके बाद मैंने और समीर ने पहचाना कि ये तो राहुल द्रविड़ हैं। फिर हम लोग खुशी-खुशी जाकर आखिरी पंक्ति में बैठ गया। जो लड़की उनके अगली सीट पर बैठी थी उनको तक पता नहीं था कि उसके बगल में राहुल द्रविड़ बैठे हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *