रामदेव ने लोगों को करोड़पति बनाने की गारंटी दी तो SEBI ने थमाया नोटिस

रुचि सोया का एफपीओ लाने से पहले ही बाबा रामदेव ने कुछ ऐसी बातें कह दी हैं, जिन पर विवाद हो गया है। हालत ये है कि SEBI ने बाबा रामदेव को नोटिस थमा दिया है। दरअसल, बाबा रामदेव ने आस्था चैनल पर एक कार्यक्रम के दौरान योग करने आए लोगों को करोड़पति बनाने की गारंटी दे दी है।
बता दें कि जल्द ही पतंजलि के स्वामित्व वाली रुचि सोया फॉलो ऑन पब्लिक इश्यू यानी एफपीओ लाने वाली है। सारी तैयारियां हो चुकी हैं और सेबी से इजाजत भी मिल गई है।
बाबा रामदेव ने बताया करोड़पति बनने का फॉर्मूला!
बाबा रामदेव ने अपने कार्यक्रम के दौरान लोगों से कहा कि जल्द रुचि सोया का एफपीओ आने वाला है। बाबा रामदेव बोले कि जब वह बताएंगे तो रुचि सोया के शेयर खरीदें और फिर अगली बार जब बोलें तो पतंजलि के शेयर खरीदें। वह बोले कि शेयरों को बेचें नहीं, खरीद कर रख लें और साथ ही उन्होंने लोगों को करोड़पति बनाने की गारंटी दे डाली। बस यही बात सेबी को पसंद नहीं आई है।
सेबी ने जारी कर दिया नोटिस, अब क्या होगा?
कुछ ही दिनों पहले बाबा रामदेव के पतंजलि को सेबी ने इस बात की इजाजत दी थी कि वह रुचि सोया का एफपीओ ला सकते हैं। अब सेबी ने नियमों का उल्लंघन करने की वजह से बाबा रामदेव को नोटिस जारी कर दिया है।
सेबी ने कहा है कि SEBI (ICDR) Regulations, 2018 के अनुसार किसी भी इश्यू के विज्ञापन में लोगों को अचानक पैसा बढ़ाने या मुनाफा बढ़ाने का वादा नहीं किया जा सकता है। रामदेव ने ऐसा ही वादा किया और करोड़पति बनने की गारंटी दे दी है।
कितना बड़ा है ये एफपीओ?
रुचि सोना ने एफपीओ (FPO) के जरिए 4,300 करोड़ रुपए जुटाने के लिए एक प्रस्ताव सेबी (SEBI) की मंजूरी के लिए पेश किया है। यह एफपीओ भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमाय बोर्ड के शेयर-सूचीबद्धता के न्यूनतम सार्वजनिक शेयर के नियम को पूरा करने के लिए लाया जा रहा है। इसके तहत सूचीबद्ध कंपनी का कम से कम 25 प्रतिशत शेयर बाजार में होना चाहिए। रुचि सोया को पतंजलि आयुर्वेद ने वर्ष 2019 में दिवाला संहिता के तहत ऋण समाधान प्रक्रिया के जरिए 4,350 करोड़ रुपए में अधिग्रहण किया था। कंपनी तेल मिल, खाद्य तेल प्रसंस्करण और सोया उत्पादों आदि का कारेाबार करती है। महाकोष, सनरिच, रुचि गोल्ड और न्यूट्रेला कंपनी के शीर्ष ब्रांड हैं। अगर सेबी ने कंपनी पर कोई रोक नहीं लगाई तो इसी महीने रुचि सोया का एफपीओ आ सकता है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *