ये क्‍या बोल बैठे स्‍वामी अग्‍निवेश: कहा, बुर्के में महिला किसी जंतु सरीखी लगती है

श्रीलंका में बुर्के पर प्रतिबंध लगने के बाद पूरे देश में इस मुद्दे पर बहस छिड़ गई है. एक ओर जावेद अख्तर ने भी बुर्के को गलत ठहराया और कहा कि घूंघट पर भी बैन लगना चाहिए तो वहीं स्वामी अग्निवेश ने भी बुर्के को लेकर बयान दिया है. उन्होंने इस पर प्रतिबंध की मांग करते हुए कहा कि बुर्के में महिलाओं को देखकर डर लगता है.
दरअसल, भोपाल में स्वामी अग्निवेश ने बुर्के पर मचे बवाल पर ये बयान दे डाला. उन्होंने कहा, ‘बुर्के में महिला को देखकर लगता है कि वो महिला नहीं कोई जंतु है, एक बार के लिए बुर्के में महिला को देखकर डर भी लगता है. इस पर प्रतिबंध लगना जरुरी है और मुस्लिम समाज के लोगों को भी इसमें आगे आकर सहयोग करना चाहिए.’
हालांकि इस दौरान उन्होंने घूंघट प्रथा पर भी कड़ी प्रतिक्रिया दी. स्वामी अग्निवेश ने कहा कि घूंघट के भी वो सख्त खिलाफ हैं. महिलाएं सरपंच तक बन जाती हैं लेकिन घूंघट पहन कर बैठती हैं और उनके पति सरपंचगिरी करते हैं.
स्वामी अग्निवेश ने भोपाल से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय का समर्थन भी किया. उन्होंने प्रज्ञा ठाकुर के मैदान में उतारने पर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि साध्वी प्रज्ञा पर आतंकवाद के आरोप हैं. ट्रायल अभी खत्म नहीं हुआ लेकिन बीजेपी ने उन्हें भोपाल जैसी अहम सीट पर प्रत्याशी बनाया है.
उन्होंने कहा कि बीजेपी के पास उमा भारती, सुषमा स्वराज जैसे बेहतर नेता थे जिनकी सेक्युलरिज्म पर कोई सवाल नहीं उठा सकता है, लेकिन बीजेपी ने गलत फैसला लिया है. ये फैसला भाजपा के इतिहास में सबसे गलत फैसला है. इससे साफ है बीजेपी आंतक को खत्म नहीं उसे पनाह देने का काम कर रही है.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *