क्‍या है ICC का आर्टिकल 2.4.4, जिसके तहत शाकिब बैन हुए

ICC (अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) ने बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन को जिस कोड ऑफ कंडक्ट 2.4.4 के तहत हर प्रकार का क्रिकेट खेलने से बैन किया है, वह है क्‍या ?
ICC ने एंटी-करप्शन कोड के आरोपों को स्वीकार करने के बाद इसमें से एक साल के बैन को सस्पेंड कर दिया गया। ICC ने शाकिब पर आर्टिकल 2.4.4 के तहत बैन लगाया है।
अब अगर शाकिब नियमों के अनुसार चलते हैं तो वह 29 अक्टूबर 2020 से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी कर सकते हैं।
बुकी ने कब-कब किया संपर्क
• जनवरी 2018 में ट्राई सीरीज और आईपीएल के दौरान सटोरिए ने संपर्क साधने की कोशिश की
• जनवरी 2018 में ही ट्राई सीरीज के दौरान दूसरी बार सटोरिए ने संपर्क साधने की कोशिश की
• अप्रैल 2018 में सनराइजर्स बनाम हैदराबाद आईपीएल मैच से पहले किया संपर्क
क्या कहता है ICC का नियम
किसी भी तरह के संपर्क की जानकारी एसीयू को नहीं देने का अपराध एसीयू के कोड 2.4.4 के अंतर्गत आता है। शाकिब ने इसी नियम का उल्लंघन तीन बार किया। नियमानुसार किसी भी तरह के संपर्क की जानकारी एसीयू को तुरंत नहीं देने से मामले की छानबीन पर असर पड़ता है। इस अपराध के लिए कम से कम छह महीने और ज्यादा से ज्यादा पांच साल के बैन की सजा तय की गई है।
क्या है ICC का कोड ऑफ कंडक्ट 2.4.4
ICC के कोड ऑफ कंडक्ट के नियम 2.4.4 के तहत किसी भी खिलाड़ी को भ्रष्ट आचरण में संलिप्त होने या ICC के भ्रष्टाचार रोधी नियमों का उल्लंघन करने का न्योता मिलने पर बिना किसी देरी एंटी करप्शन यूनिट से संपर्क करना चाहिए। इसमें यह भी कहा गया कि खिलाड़ी द्वारा कभी भी किसी भी तरह की देरी स्वीकार नहीं की जाएगी। खिलाड़ी को हर हाल में उस मैच, जिसके लिए उसे भ्रष्ट आचरण में शामिल होने को कहा गया है, से पहले ही इसकी जानकारी एंटी करप्शन यूनिट को देनी ही होगी।
कितनी सजा का प्रावधान?
इसमें कम से कम छह महीने और अधिकतम पांच साल का बैन लगाया जा सकता है।
एक साल का सस्पेंडेड बैन क्या है?
एक संदिग्ध भारतीय सटोरिए द्वारा आईपीएल समेत तीन बार पेशकश किए जाने की जानकारी नहीं देने पर बांग्लादेश के कप्तान और स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन पर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने दो साल का बैन लगा दिया है। अब वह तीन नवंबर से शुरू हो रहे भारत दौरे पर नहीं आ सकेंगे। शाकिब पर एक साल का पूर्ण बैन और 12 महीने की अवधि का निलंबित बैन लगाया गया है। यह तब लागू होगा अगर शाकिब ICC की भ्रष्टाचार निरोधक संहिता का पालन करते हैं और नियमित रूप से एंटीकरप्शन एजुकेशन और/अथवा रिहैब कार्यक्रमों का हिस्सा बनते हैं। अगर ICC उनके रवैये से संतुष्ट रहती है तो वह 29 अक्टूबर 2020 से इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी कर सकते हैं।
बुकी ने किया था संपर्क
ICC की एंटी करप्शन यूनिट (एसीयू) ने जनवरी और अगस्त में शाकिब से बात की थी। उन्होंने संदिग्ध दीपक अग्रवाल द्वारा उनसे संपर्क किए जाने की जानकारी ICC को नहीं दी थी। ICC की एसीयू इस व्यक्ति को जानती है और उस पर क्रिकेट में भ्रष्टाचार में लिप्त होने का संदेह है। ICC ने कहा कि अग्रवाल ने तीन अलग-अलग मौकों पर शाकिब से टीम स्ट्रैटिजी और कॉम्बिनेशन के बारे में जानकारी देने को कहा था। उनमें से एक बार 26 अप्रैल 2018 को संपर्क किया गया जब शाकिब की आईपीएल टीम सनराइजर्स हैदराबाद को किंग्स इलेवन पंजाब से खेलना था। हैदराबाद ने 13 रन से जीत दर्ज की थी।
डिलीट किए थे कई मैसेज
ICC ने कहा, ‘26 अप्रैल 2018 के कई मैसेज में डिलीट किए गए मैसेज भी हैं। उन्होंने स्वीकार किया कि डिलीट किए गए ये मैसेज भीतरी जानकारी देने के अग्रवाल के अनुरोध के थे।’ अग्रवाल ने बांग्लादेश प्रीमियर लीग के दौरान भी उनसे संपर्क किया था जब शाकिब 2017 में ढाका डाइनामाइट्स के लिए खेल रहे थे। इसके बाद जनवरी 2018 में श्रीलंका और जिंबाब्वे के साथ ट्राई सीरीज के दौरान उनसे संपर्क किया गया। ICC ने कहा कि अग्रवाल, शाकिब से मिलना चाहते थे लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया। बातचीत के बाद उन्हें अहसास हुआ कि अग्रवाल सटोरिया है। शाकिब पांच साल के अधिकतम प्रतिबंध से बच गए हैं लेकिन उन्हें इस फैसले के खिलाफ अपील का अधिकार नहीं होगा क्योंकि उन्होंने सजा स्वीकार कर ली है।
टी20 वर्ल्ड कप भी गया
बांग्लादेश क्रिकेट के लिए यह बहुत बड़ा झटका है। लंबे समय से बांग्लादेशी क्रिकेट टीम की रीढ़ रहे शाकिब भारत दौरे से बाहर होने के अलावा अगले साल इंडियन प्रीमियर लीग और ऑस्ट्रेलिया में 18 अक्टूबर से 15 नवंबर 2020 तक होने वाले टी20 वर्ल्ड कप में भी नहीं खेल सकेंगे। आईसीसी के निर्देशों पर उन्हें टीम के अभ्यास से भी दूर रखा गया। भारत के खिलाफ सीरीज में तीन टी20 और दो टेस्ट खेले जाने हैं। शाकिब ने सभी आरोपों सहित अपनी सजा स्वीकार ली है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *