ADF, NC और वी फॉर आगरा की वेबीनार

आगरा। जीवन में सफल होना है तो आपको सफलता के अनेक सूत्रों को सीखना होगा जिनमें महत्वपूर्ण सूत्र है कि आप लोगों को ‘न’ कहना भी सीखें, दूसरों की प्रशंसा करना सीखें है और दूसरों के अच्छे कार्यों के प्रति आभार प्रकट करें। प्रशंसा और चापलूसी में अंतर होता है यह भी हमें समझना होगा। यह बातें निकलकर आयीं अभी हाल की एक वेबिनार में जिसका सफल आयोजन किया गया था आगरा डवलपमेन्ट फाउन्डेशन (एडीएफ), नेशनल चैम्बर व वी फाॅर आगरा के द्वारा। वेबिनार के मुख्य वक्ता थे हिन्दुस्तान इन्स्टीटयूट के निदेशक एवं लाईफकोच डा0 नवीन गुप्ता जिनकी अभी हाल में एक पुस्तक प्रकाशित हुई है जिसका नाम है- ‘जीवन में सफलता के 25 कदम’।

डाॅ0 नवीन गुप्ता ने कहा कि हमें सफलता के मन्त्रों को जानना होगा, अपना नजरिया (एप्टीटयूड) बदलना होगा और उनका प्रतिदिन अभ्यास करना होगा तो हमारी सफलता निश्चित है। हमें दूसरों में कमियां निकालने की आदत से बचना चाहिये और लोगों के प्रति आभारी होना चाहिये चाहें वे हमारे कर्मचारी हों या कोई सेवाप्रदाता। यदि हम किसी कार्य को नहीं कर सकते हैं तो पहले ही ‘न’ कह दें अन्यथा अनावश्यक तनाव और कठिनाई में हम अपने आपको डाल लेते हैं। अपनी गलती को स्वीकार करने की आदत भी हमें डालनी चाहिये। अपने आपसे प्यार करना भी बहुत जरूरी है और दर्पण में देखकर अपने आपको पसन्द करना चाहिये। जब तक हम अपने आपको प्यार नहीं करते हैं, तब तक सेल्फ एस्टीम का भाव हमारे अन्दर पैदा नहीं होगा। यदि हमें प्रभावशाली बनना है तो हमें बात करते समय लोगों की आँख में आँख डालकर बात करनी होगी। यह भी याद रखना है कि लोगों की प्रशंसा करना और हास्य विनोद करना भी हमें आना चाहिये। लोगों के नाम भी याद रखिए,

एडीएफ सचिव के0सी0 जैन ने इस पुस्तक में दिये गये सफलता के सूत्रों को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि ये छोटे-छोटे लगते हैं लेकिन वे जीवन में बड़ा परिवर्तन ला सकते हैं और हमें सफलतम व्यक्ति के शिखर पर पहुंच सकते हैं। पुस्तक की पहुँच हिन्दी भाषियों तक हो इसके लिये इस पुस्तक के हिन्दी अनुवाद के लिये जैन ने अपनी सेवाऐं देने के लिए सहमत हैं।

नेशनल चैम्बर अध्यक्ष राजीव अग्रवाल ने सफलता के लिये समय की कसौटी पर परखे हुए इन कदमों के महत्व पर चर्चा करते हुए कहा कि हमें इन कदमों को अपने जीवन का हिस्सा बनाना चाहिये।

वेबिनार में इलाहाबाद से सम्मिलित हुए पूर्व न्यायमूर्ति राजीव लोचन मेहरोत्रा ने कहा कि सफलता के लिये समाज को परिवार समझना जरूरी है। हम यदि सफल और खुश रहना चाहते हैं तो पड़ौसियों को खुश रखना हमारी जिम्मेदारी है।

अग्रणी निर्यातक गोपाल गुप्ता द्वारा सफलता का मंत्र पूरे उत्साह से कार्य करना बताया गया। एफमेक एवं एडीएफ के अध्यक्ष पूरन डाबर द्वारा डेलीगेशन को सफलता का एक बड़ा माध्यम बताया जिसके लिए अपने वर्कफोर्स पर विश्वास करना जरूरी बताया। नई पीढ़ी के नजरिये को भी उन्होंने अच्छा बताया।

सूरत से सम्मिलित हुए उद्यमी अशोक गोयल ने समाजसेवा के क्षेत्र में अपनी सफलता के कारणों पर प्रकाश डालते हुए पारदर्शिता को जरूरी बताया।

अमेरिका से सम्मिलित हुए डाॅ0 राम प्रकाश गुप्ता ने कहा कि हमारे जीवन में बहुत चीजें खो गयीं हैं। मैनेजमेन्ट के सिद्धान्त में हमें ‘न’ कहना सीखना होगा। वेबिनार में दिये गये टिप्स को हर आयु वर्ग के लिये उपयोगी बताया। जज प्रवीन कुमार ने भी वेबिनार को उपयोगी बताया।

लखनऊ से सम्मिलित हुईं डा0 रश्मि सोनी ने जीवन में सहानुभूति, प्यार और आभार (एम्पेथी, कम्पेशन, गे्रटीट्यूड) को सफलता के लिए जरूरी बताया। कबीर दास के दोहों को लेकर भी उनके द्वारा लिखी गयी पुस्तक का संदर्भ सफलता के लिये दिया गया।

प्रोफेसर अंशुमन सिंह ने कहा कि सफलता के मंत्रों को हमें उस सरलता से बताना आना चाहिये कि एक ग्रामीण को भी हम समझा सकें। सरल होना ही सबसे कठिन है। दिल्ली से सम्मिलित हुए सुप्रीम कोर्ट अधिवक्ता अजय वीर सिंह ने कहा कि हमारी कार्य करने की क्षमता में बहुत वृद्धि हो सकती है जब हमारे चारों ओर के परिवेश में परिवर्तन हो। आगरा को शिक्षा जगत का दूसरा हावर्ड बनाने की बात को भी रखा और कहा कि आगरा केवल ताजमहल के लिये ही नहीं बल्कि शिक्षा व अन्य विशेषताओं के लिए भी जाना जाना चाहिये।

चैम्बर के पूर्व अध्यक्ष राजीव गुप्ता ने डाॅ0 नवीन गुप्ता की इस पुस्तक को मित्रों व परिजनों को उपहार में देने की बात रखी और प्रमोद अग्रवाल ने पुस्तक को लाइब्रेरी और स्कूलों में उपलब्ध कराने के लिए कहा। वेबिनार में वीरेन्द्र कुमार गुप्ता, अनिल अग्रवाल, मयंक मित्तल, अधिवक्ता विवेक साराभाई आदि लगभग 80 लोग वेबिनार में सम्मिलित हुए और वेबिनार के माॅडरेटर थे के0सी0 जैन। सफलता के विभिन्न पहलूओं को लेकर प्रत्येक 15 दिन के अन्तराल पर ऐसी ही वेबिनार आयोजित करने की सभी ने मांग की।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *