आगरा को Garment hub बनाने पर यूपी सरकार का स्वागत

आगरा। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आगरा में Garment hub बनाने के निर्णय का स्वागत करते हैं, गर्मेन्टिंग रोज़गार पारक सेक्टर है। सिविल सोसाइटी ऑफ़ आगरा के सचिव अनिल शर्मा ने कहा क‍ि आगरा जूते का बहुत बड़ा निर्यातक है जितने भी अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड जूता लेते हैं वो सभी रेडीमेड वस्त्र भी खरीदते हैं।

इंटरनेशनल स्तर का Garment hub पार्क बनाने का आगरा को फायदा मिलेगा। विदेशी बायर जूते के साथ सिले हुए कपड़े भी आगरा से खरीदेगा, शहर में और बहुत सारी सहायक इकाईयों का भी रास्ता खुलेगा।
आगरा में बहुत से स्किल्ड जातियां हैं जो सिलाई के कार्य में दक्ष हैं और वो लोग आगरा के बाहर उन शहरों में कार्य कर रहे हैं जहाँ सिले हुए वस्त्रों का निर्माण होता है, उन लोगों के लिए भी अपने शहर लौटने का अवसर प्रदान करेगा।

१९९० के दशक में गारमेंट इंडस्ट्री को स्माल स्केल इंडस्ट्री के स्टेटस से मुक्त कर दिया गया था। तब से भारत में बड़े बड़े गारमेंट यूनिट्स की स्थापना शुरू हुई। हम सब मिलकर, खास कर जूते के निर्यातक अपने ख़रीदार से बात कर उन से भी यूनिट लगाने या सौर्सिंग इकाई लगाने की बात कर सकते हैं। भारत के बड़े ब्राँड की यूनिट जो उत्तर भारत में डिस्ट्रीब्यूशन के लिए लाभकारी हो सकती है। आगे चल कर हम बांग्लादेश के बड़े गारमेंट फ़ैक्टरी मालिकों को भी आगरा बुला कर बिज़नेस के नए आयाम स्थापित कर सकते हैं। भारत कपडे के बैग का भी बहुत बड़ा निर्यातक है, साथ ही बैग का लोकल मार्किट भी है।

अन‍िल शर्मा ने कहा क‍ि सरकार, जन प्रतिनिधि , आगरा के बिज़नेस लीडर्स और जनता को साथ मिल कर कार्य करना होगा। और इस को स्थापित करने का रोड मानचित्र बनाना होगा। सारी परिस्थ‍ित‍ियों को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार का यह सही निर्णय है। भारत के अलावा बांग्लादेश में महिलाओं का बहुत योगदान रहता है, दक्षिण भारत के भी यूनिट्स में महिलाएं बहुमत में कार्य करती हैं। अत: हमें उम्मीद है क‍ि आगरा में भी ऐसा ही होगा क्यों कि‍ महिला प्राकृतिक रूप से यह काम अत्यंत सफाई और मेहनत से कर सकती है।

गौरतलब है क‍ि कल शुक्रवार को गारमेंट हब (अपैरल पार्क) के लिए आगरा और अलीगढ़ के नाम पर मुहर लग गयी है। शुक्रवार को सर्किट हाउस में प्रदेश के एमएसएमई राज्यमंत्री चौधरी उदयभान सिंह ने प्रेसवार्ता कर ये जानकारी दी।  उन्होंने बताया कि प्रदेश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए प्रदेश सरकार ने जो रोड मैप तैयार किया है उसमें आगरा और अलीगढ़ को भी शामिल कर लिया गया है।

प्रदेश में कम से कम पांच अपैरल पार्कों की स्थापना होनी है। योजना के तहत गारमेंटिंग एवं अपैरल क्षेत्र में काम करने के लिए युवाओं को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। हथकरघा एवं पावरलूम बुनकरों के लिए नई योजना भी लाई जाएगी।

यह अपैरल पार्क यूपीईआईडीए द्वारा विकसित किए जाएंगे और यह एक्सप्रेस-वे के किनारे स्थापित होंगे। फैसीबिल्टी स्टडी और डीपीआर तैयार करने के लिए जल्दी ही कंसल्टेंट ट्रांसेक्शन एडवाइजर की नियुक्ति होगी।

  • Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *