वसीम रिजवी ने तबलीगी जमात की हरकत को फिदायीन हमला बताया

नई दिल्‍ली। दिल्ली का निजामुद्दीन मरकज बीते कुछ दिनों से सुर्खियों में है। इसका एकमात्र कारण है तबलीगी जमात से जुड़े लोगों का सैकड़ों की तादात में कोरोना पॉजिटिव होना। कल भी दिल्ली में COVID-19 संक्रमण के कुल 93 मामले सामने आए थे, इनमें सभी के सभी तबलीगी जमात से जुड़े लोग था।
इस मामले में केंद्रीय शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने इसे फिदायनी हमला करार दिया है। उन्होंने कहा कि तबलीगी जमात ने घातक जानलेवा वायरस फैलाकर भारत पर ‘फिदायीन’ हमले की योजना बनाई थी।
रिजवी ने एक बयान में कहा कि जमातियों ने वायरस फैलाकर एक लाख से अधिक लोगों को मारने की योजना बनाई थी। उन्होंने कहा कि यह योजना मोदी सरकार को परेशान करने के लिए बनाई गई थी और वास्तव में प्रधानमंत्री के खिलाफ एक साजिश थी।
रिजवी ने आगे कहा कि जमाती अब मेडिकल स्टाफ के साथ दुर्व्यवहार कर रहे हैं और उन पर हमला कर रहे हैं ताकि मेडिकल बिरादरी को बदनाम किया जा सके और वे कोरोना के मरीजों का इलाज करना बंद कर दें। उन्होंने आगे कहा कि यह राष्ट्र के खिलाफ एक साजिश थी और आरोपियों को इसके लिए कड़ी सजा सुनिश्चित की जानी चाहिए।
कोरोना के 5865 पॉजिटिव केस
देश में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमितों के 591 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 5865 हो गई है तथा इसके कारण 20 और लोगों की मौत के बाद मृतकों का आंकड़ा 169 पहुंच गया है। कोरोना से अबतक 478 लोगों को निजात दिलाई जा चुकी है, जबकि 5281 लोगों का इलाज किया जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार (9 अप्रैल) शाम को यह जानकारी दी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *