वॉन्टेड क्रिमिनल को याक की सवारी का फोटो डालना महंगा पड़ा, गिरफ्तार

मेरठ। मेरठ में इसी साल मार्च और फिर जून में बड़े पैमाने पर हिंसा फैलाने का आरोपी हाजी सैयद काफी समय से फरार चल रहा था। उसकी फेसबुक पोस्ट से पुलिस को उसकी लोकेशन का पता चला जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।
कुछ दिनों पहले ही आरोपी ने शिमला के पास कुफरी में याक की सवारी की तस्वीर पोस्ट की थी जिसके बाद पुलिस को उसकी लोकेशन का पता चला तो उसे गिरफ्तार कर लिया गया।
जब पुलिस को आरोपी के फेसबुक पोस्ट के बारे में जानकारी मिली तो वह तुंरत एक्शन में आई और एक टीम को शिमला भेजा गया। हालांकि सैयद के मेरठ में रहने वाले संपर्क सूत्रों को पुलिस की योजना के बारे में मालूम चल गया था और उन्होंने उसे को अलर्ट कर दिया था। इसके बाद उसने अपनी लोकेशन बदलनी शुरू कर दी। आखिरकार मोबाइल सर्विलांस और स्थानीय पुलिस के सहयोग से सईद को गिरफ्तार कर लिया गया।
पुलिस के अनुसार, सैयद हिंसा में वॉन्टेड था जो मेरठ के मछेरान इलाके में इसी साल मार्च में 200 से अधिक घरों में आग लगने के बाद भड़की थी। इसी साल मेरठ के भूसामंडी इलाके में एक झुग्गी में आग लगने के बाद लगभग 200 लोगों की भीड़ ने हिंसा का सहारा लिया था जिसमें चार रोडवेज बसों और एक कार में तोड़फोड़ की गई थी। इसमें कई यात्री घायल हो गए थे।
हिंसा फैलाने के आरोपियों में कम से कम 30 लोगों की पहचान की गई और उन्हें गिरफ्तार किया गया। सैयद हिंसा के मुख्य साजिशकर्ताओं में से एक के रूप में उभरा। सैयद मछेरान हिंसा में नाम आने के बाद से ही लापता था। एसपी सिटी अखिलेश नारायण सिंह ने बताया, ‘वह जून में मॉब लिंचिंग के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हिंसा में भी आरोपी था।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *