विराट कोहली बोले, आखिर कोई गणित पढ़ना ही क्यों चाहता है

नई दिल्‍ली। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने 30 साल की उम्र में ही कई कीर्तिमान अपने नाम कर लिए हैं। कोहली अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में बल्ले से कमाल कर रहे हैं। पिछले तीन-चार साल में कोहली की बल्लेबाजी का स्तर और भी आगे निकल गया है। कोहली इस समय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज माने जाते हैं।
हालांकि एक बात है जिसे लेकर उन्हें आज भी थोड़ा दुख होता है। कोहली को स्कूल के दिनों में गणित विषय में फेल होने का अब भी अफसोस है। कोहली ने यह बात एक चैट शो के दौरान कही। कोहली ने बताया कि गणित में उन्हें स्कूल में 100 में से तीन नंबर आते थे। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें गणित की पेचीदगियां समझ नहीं आती थीं। कोहली ने यहां तक कहा कि वह समझ नहीं पाते थे कि आखिर कोई गणित पढ़ना ही क्यों चाहता है।
उन्होंने मशहूर American Sports Journalist ग्राहम बेनसिंगर के शो In Depth with Graham Bensinger में कहा, ‘गणित में हमारे यहां अधिकतम 100 नंबर आ सकते थे। मेरे तीन नंबर आते थे। मैं गणित में इतना अच्छा था। मुझे समझ नहीं आता था कि कोई आखिर गणित सीखना ही क्यों चाहता है।’
कोहली ने कहा, ‘मैंने कभी खुद को गणित के साथ जोड़ नहीं पाया। मुझे खेल समझ आता था और वही मेरे काम आया।’ कोहली ने कहा कि वह सिर्फ किसी तरह 10वीं क्लास में पास होना चाहते थे। कोहली ने कहा कि वह जानते थे कि 10वीं के बाद आप अपनी पसंद के विषय चुन सकते हैं। कोहली ने मजाक में कहा कि इसके बाद उन्होंने क्रिकेट में इतनी मेहनत की ताकि उन्हें दोबारा एग्जाम ने देना पड़े।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *