विराट कोहली ने कहा, मैं खुद को अगले तीन साल के लिए तैयार कर रहा हूं

वेलिंग्टन। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली खुद को ‘तीन मुश्किल वर्षों’ के लिए तैयार कर रहे हैं। इन तीन वर्षों में वह सभी तीनों प्रारूपों में खेलेंगे। इसके बाद वह अपने वर्कलोड का आंकलन करेंगे। कोहली चाहते हैं कि ट्रांजेशन पीरियड सेट हो जाए और उसके बाद वह इस पर विचार करें। दुनिया के चोटी के बल्लेबाज की नजर अगले तीन साल में होने वाले दो टी20 वर्ल्ड कप और एक 50 ओवरों के वर्ल्ड कप पर है। इसके बाद वह तीन में से किन्हीं दो प्रारूपों में खेलने पर विचार कर सकते हैं।
कोहली से जूब पूछा गया कि क्या 2021 में भारत में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप के बाद क्या वह कोई एक प्रारूप खेलना छोड़ देंगे, तो उन्होंने कहा, ‘मेरी नजर बड़ी तस्वीर पर है। मैं खुद को अगले तीन साल के लिए तैयार कर रहा हूं। उसके बाद शायद मैं अलग बात करूंगा।’
शुक्रवार से न्यूजीलैंड के खिलाफ शुरू हो रही टेस्ट सीरीज से पहले प्रेस क्रॉन्फ्रेंस में थकान और वर्कलोड मैनेजमेंट पर खुलकर बात की।
उन्होंने कहा, ‘इस विषय से आप छुप नहीं सकते। करीब 8 साल से मैं साल में लगभग 300 दिन खेल रहा हूं, इसमें सफर और प्रैक्टिस सेशन शामिल हैं। और हर बार उतने ही जोश और जुनून के साथ मैदान पर उतरता हूं। इससे आप पर काफी दबाव पड़ता है।’
कोहली इस साल 31 वर्ष के हो जाएंगे, उन्होंने माना कि बीच-बीच में ब्रेक लेते रहने से उन्हें फायदा हुआ है। उन्होंने कहा, ‘ऐसा नहीं है कि खिलाड़ी हर समय इसी के बारे में सोचते रहते हैं। हम निजी रूप से बीच-बीच में ब्रेक लेते रहते हैं हालांकि कई बार शेड्यूल आपको ऐसा करने की इजाजत नहीं देता। यह उन खिलाड़ियों के लिए बहुत ज्यादा जरूरी है जो तीनों प्रारूपों में खेलते हैं।’
कोहली के लिए यह सिर्फ प्रदर्शन की बात नहीं है लेकिन कप्तानी की भी बात है जिसमें आपको रणनीति बनाने के लिए लगातार दिमाग ऐक्टिव रखना पड़ता है।
उन्होंने कहा, ‘कप्तान होना, प्रैक्टिस सेशन में भी वही जोश दिखाना, यह सब आसान नहीं है। इससे आप पर काफी जोर पड़ता है। बीच-बीच में ब्रेक लेते रहना अच्छा रहता है।’
उन्होंने कहा, ‘जब मेरा शरीर और दबाव नहीं झेल पाएगा, जब मैं 34 या 35 साल का हो जाऊंगा, तब शायद हम अलग बात करेंगे। अगले दो-तीन साल तक कोई समस्या नहीं है।’ 2023 विश्व कप तक अपनी मौजूदगी और फॉर्म की अहमियत को कोहली बखूबी समझते हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं इसी जज्बे से खेल सकता हूं और समझता हूं कि टीम को अगले दो-तीन साल तक मेरे सहयोग की जरूरत है, तो मैं चाहता हूं कि एक ओर ट्रांजिशन पीरियड से टीम आसानी से गुजर जाए।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *