विजय रूपाणी का गुजरात के मुख्‍यमंत्री पद से इस्‍तीफा, संगठन में काम की इच्‍छा

अहमदाबाद। गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी ने शनिवार को राज्यपाल से मिलकर अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कहा कि अब मैं संगठन में काम करना चाहता हूं।
उन्होंने राज्यपाल से मिलने के बाद अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया। उन्होंने कहा कि मैं भारतीय जनता पार्टी का आभार व्यक्त करता हूं कि मैं यह जिम्मेदारी दी। उन्होंने कहा कि मुझे नरेंद्र मोदी का विशेष मार्गदर्शन मिला और गुजरात ने विकास के नए आयाम छुए।
रूपाणी ने 26 दिसंबर 2017 को दूसरी बार गुजरात के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली थी। रूपाणी को भाजपा के पूर्व अध्‍यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह का करीबी माना जाता है। रूपाणी गुजरात भाजपा के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।
इस्तीफे के बाद रूपाणी ने कहा कि समय के साथ पार्टी में दायित्व बदलते रहते हैं। उन्होंने कहा कि मुझे जो भी नई जिम्मेदारी मिलेगी, मैं उसे निभाऊंगा। उन्होंने कहा कि गुजरात का विकास अब नए मुख्‍यमंत्री के नेतृत्व में हो।
गुजरात के राजनीतिक हलकों में माना जा रहा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री पाटीदार समाज से हो सकता है। सीएम पद की दौड़ में मनसुख मांडविया, पुरुषोतम रुपाला, नितिन पटेल का नाम आगे चल रहा है।
राजनीतिक जीवन: राजकोट पश्चिम से विधायक विजय रूपाणी ने 1971 में जनसंघ के सदस्य बने तथा इसी समय वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से भी जुड़ गए। उन्होंने राजनीति की शुरुआत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से की। वे गुजरात के उन चुनिंदा नेताओं में शुमार हैं, जो आपातकाल के दौरान जेल गए। रूपाणी राज्यसभा सांसद के साथ पार्टी महासचिव भी रह चुके हैं।
युवाओं में लोकप्रिय रूपाणी के बारे में कहा जाता है कि वे गुजरात की राजनीति को बखूबी समझते हैं। वे राज्य के ट्रांसपोर्ट मंत्री भी रह चुके हैं साथ युवाओं में काफी लोकप्रिय हैं। 60 वर्ष के रूपाणी को केशुभाई पटेल के जमाने में पार्टी ने मेनिफेस्‍टो कमेटी का अध्‍यक्ष बनाया था। विजय रूपाणी को कुशल चुनाव प्रबंधन के लिए भी जाना जाता है। 2007 और 2012 के विधानसभा चुनाव में सौराष्‍ट्र-कच्‍छ इलाके में उन्होंने पूरी कुशलता से चुनाव का संचालन किया था, जहां भारी मतों से भाजपा की जीत हुई थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *