शेड्यूल के मुताबिक होगी UPSC सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा

UPSC सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021 का आयोजन तय शेड्यूल के मुताबिक ही होगा। दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को कोविड-19 महामारी के कारण परीक्षा स्थगित करने की मांग वाली याचिका खारिज कर दी। बता दें कि यूपीएससी द्वारा सिविल सेवा मुख्य परीक्षा का आयोजन 7 जनवरी से 16 जनवरी 2022 के बीच किया जाएगा।
यूपीएससी मुख्य परीक्षा के कुछ अभ्यर्थियों ने दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर मांग की थी कि बढ़ते कोरोना संक्रमण और ओमिक्रॉन के चलते एग्जाम को स्थगित कर दिया जाए। यह परीक्षा करवाने का सही समय नहीं है। याचिकाकर्ताओं का कहना था कि यूपीएससी परीक्षा के अधिकांश केंद्र मेट्रो शहरों में स्थित हैं जो घनी आबादी वाले हैं। इससे उनके संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता हैं।
दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति डीएन पटेल की अध्यक्षता वाली खण्डपीठ के समक्ष हुई सुनवाई के बाद याचिका खारिज कर दी गयी। इससे पहले, इस याचिका को परीक्षा शुरू होने के एक दिन पहले ‘अर्जेंट हियरिंग’ के लिए सूचीबद्ध किया गया था।
सोशल मीडिया पर भी बहुत से स्टूडेंट्स लगातार परीक्षा टालने की मांग कर रहे थे। उनका कहना था कि एग्जाम के लिए दूसरे शहरों में परीक्षा केंद्रों की यात्रा करनी पड़ती है। पाबंदियों के चलते परीक्षार्थियों को कई तरह की दिक्कत आ सकती है।
इससे पहले सिविल सेवा मुख्य परीक्षा स्थगित करने की मांग पर संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने बुधवार को साफ कर दिया था कि एग्जाम तय शेड्यूल के मुताबिक ही होंगे। यूपीएससी ने कहा है कि 7, 8, 9, 15 और 16 जनवरी को होने वाली मुख्य परीक्षाओं की तिथियों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। आयोग ने राज्य सरकारों से आग्रह किया है कि वह परीक्षा के आयोजन में सहयोग करें और सुनिश्चित करें कि परीक्षार्थियों को आने-जाने में कोई दिक्कत न हों।
आपको बता दें कि यूपीएससी प्रीलिम्स परीक्षा में 9200 उम्मीदवार पास हुए थे जो 7 जनवरी से होने वाली मुख्य परीक्षा में शामिल होंगे। आयोग मुख्य परीक्षा के एडमिट कार्ड पहले ही जारी कर चुका है।
कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते बहुत से परीक्षार्थी पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर गुहार लगा रहे थे कि सिविल सेवा मुख्य परीक्षा टाल दी जाए। वह अपने ट्वीट में केंद्रीय मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह को टैग कर रहे थे।
यूपीएससी ने नोटिस जारी कर कहा ‘कोविड-19 महामारी की स्थिति की समीक्षा करने के बाद आयोग ने सिविल सेवा मुख्य परीक्षा तय शेड्यूल के मुताबिक ही कराने का फैसला किया है। कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए सरकारों द्वारा कई तरह की पाबंदियां लगाईं गई हैं। आयोग ने राज्य सरकारों से अनुरोध किया है कि वह यह सुनिश्चित करें कि परीक्षार्थियों (खासतौर पर वह जो कंटेनमेंट जोन व माइक्रो कंटेनमेंट जोन से आ रहे हैं) को आने-जाने में किसी तरह की कोई दिक्कत न हो। उनके ई-एडमिट कार्ड और आईडी कार्ड को मूवमेंट पास के तौर पर इस्तेमाल किया जाए।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *