यस बैंक संकट के लिए कांग्रेस की यूपीए सरकार जिम्‍मेदार: कानून मंत्री

नई दिल्‍ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बाद केन्द्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यस बैंक संकट के लिए कांग्रेस की यूपीए सरकार को जिम्मेदार बताया है।
उन्होंने कहा है कि जहां तक यस बैक का सवाल है तो सरकार तो सख्ती से काम कर रही है। स्टेट बैंक उस दिशा में आगे बढ़ रहा है और निर्मला जी ने हमार वित्त मंत्री जी ने विस्तार से बताया है कि जिन लोन के कारण यस बैंक की हालत डगमगाई है।
उन्होंने कहा कि वो लोन कब दिया गया था। जब मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे, तब श्रीमान वित्त मंत्री चिदंबरम साहब थे। फोन बैंकिंग होती थी ना, इसको लोन दो उसको लोन दो। इसको लोन दो और उससे कट लो। तो ये कट लेने का सिस्टम जो चलता था, उसके कारण संस्थाएं परेशान होती हैं। हमारी सरकार कार्यवाही कर रही है और किसी भी निवेशकों का अहित नहीं होगा।
इससे पहले सीतारमण ने कहा था कि संकट में फंसे यस बैंक द्वारा कई बड़ी कंपनियों को 2014 से काफी पहले कर्ज दिया गया था। यह सब पहले से ही सार्वजनिक हैं। मैं इसमें ग्राहक गोपनीयता का उल्लंघन नहीं कर रही हूं, इनमें अनिल अंबानी समूह, एस्सेल, डीएचएफएल, आईएलएफएस, वोडाफोन उन संकटग्रस्त कंपनियों में शामिल हैं, जिन्हें यस बैंक ने कर्ज दिया था। उन्होंने कहा कि वह इन नामों का खुलासा इसलिए कर रही हैं क्योंकि विपक्षी दल उंगली उठा रहे हैं। सीतारमण ने इसके साथ ही यह भी कहा कि यह सब सार्वजनिक है और वह ग्राहकों की निजता का उल्लंघन नहीं कर रही हैं।
वित्त मंत्री ने कहा कि मैं यहां पुरानी कहानियां बताने नहीं आई हूं। 2004-14 के दौरान सत्ता में सरकार ने जैसे काम किया उसकी वजह से बैंकिंग प्रणाली के समक्ष कई गंभीर चुनौतियां हैं। उनपर दोष मढ़ने की मेरे पास वजह है। सीतारमण ने यूपीए एक के दौरान चिदंबरम के दो बैंकों के संकट से निपटने के तरीके पर भी सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि उस समय स्व-नियुक्त सक्षम डॉक्टर सत्ता में थे जिन्होंने लगभग डूब चुके यूनाइटेड वेस्टर्न बैंक का 2006 में जबरन आईडीबीआई में विलय कर दिया था।
सीतारमण ने कहा कि हमारे सामने आईडीबीआई की सेहत को दुरुस्त करने में समस्या आ रही है। मैं आपको यह उदाहरण बता रही हूं कि कैसे स्वयंभू स्व-नियुक्त सक्षम डॉक्टरों ने यूनाइटेड वेस्टर्न बैंक का आईडीबीआई में विलय किया। उन्होंने कहा कि आज यूनाइटेड वेस्टर्न बैंक की वजह से आईडीबीआई बैठ चुका है। यह उन लोगों के इलाज की वजह से है जो आज बोल रहे हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *