यूपी एटीएस की रिपोर्ट: आतंकवाद से जुड़े 20 बांग्‍लादेशी युवक गायब

लखनऊ। इस साल अब तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश से 20 बांग्लादेशी युवक गायब हो गए हैं। ये सभी युवक कथित रूप से इस्लामिक आतंकवादी संगठन में भर्ती होने के लिए संगठनों के संपर्क में थे। उत्तर प्रदेश एटीएस की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है।
रिपोर्ट इसी महीने पकड़े गए उन बांग्लादेशियों से पूछताछ के बाद बनाई गई है जो यूपी में गैर-कानूनी तरह से रह रहे थे। पकड़े गए ये लोग बांग्लादेश के आंतकी मॉड्यूल से जुड़े थे। ये सभी बांग्लादेशी देवबंद में रह रहे थे।
एक भगोड़े आतंकवाद के आरोपित फैजान के खिलाफ अलर्ट जारी किया गया है कि 20 साल का एक युवक, युवाओं को समझा-बुझाकर जिहाद में ले जा रहा है। वह आतंकवादी संगठन में युवाओं को भर्ती कराने में अहम भूमिका निभा रहा है। यूपी एटीएस ने फैजान को 30 जुलाई के बाद खोजना शुरू किया, जब कश्मीर से एक बांग्लादेशी को पकड़ा गया था।
यूपी एटीएस के आईजी असीम अरुण ने बताया कि फैजान अचानक लापता हो गया है। उसे अंतिम बार अगस्त महीने के पहले हफ्ते में सहारनपुर में देखा गया था। एटीएस ने फैजान के कमरे से आईएस का लिटरेचर बरामद किया है। कुछ पेपर मिला है जिसमें अस्पष्ट लिखावट में कुछ लिखा है। साथ ही जानलेवा बम बनाने का कुछ सामान भी मिला है।
फैजान के जमात उलमुजाहिद्दीन, अंसरुल्लाह बंगला और दूसरे इस्लामिक आतंकवादी संगठनों से जुड़े होने के सबूत भी मिले हैं। एटीएस की मानें तो फैजान देश के खिलाफ गतिविधियों पर काम कर रहा था। वह कश्मीर की घाटी में भी गया था।
फैजान के घर से एटीएस को कुछ जमा रसीदें मिली हैं। यह रसीदें इस बात का सबूत हैं कि फैजान को विभिन्न स्रोतों से लगातार रुपया भेजा गया। असीम अरुण ने बताया कि अवैध रूप से देश में रह रहे इन बांग्लादेशियों के अकाउंट्स में जो रुपया आया वह लगभग 50,000 रुपये है जबकि चौंकाने वाली बात यह है कि इन लोगों का एक अकाउंट सहारनपुर में चल रहा था। उस अकाउंट में 9.80 लाख रुपये जमा किए गए।
-एजेंसी