यूपी: इलाहाबाद में बीएसपी नेता की हत्‍या के बाद हंगामा, बस में लगाई आग

इलाहाबाद। यूपी के इलाहाबाद में बीएसपी नेता राजेश यादव की सोमवार देर रात गोली मारकर हत्या कर दी गई। बीएसपी नेता की हत्या से गुस्साए समर्थकों ने मंगलवार सुबह इलाहाबाद की सड़क पर जमकर हंगामा किया। उन्होंने यहां खड़ी एक रोडवेज की बस में आग लगा दी। गनीमत रही कि उस समय बस खाली थी।
भदोही के दुगुना गांव निवासी राजेश यादव 2017 में ज्ञानपुर विधानसभा सीट से बीएसपी के प्रत्याशी थे। इसके साथ ही वह बीएसपी ज्ञानपुर विधानसभा के प्रभारी भी थे। राजेश कंपनीबाग के पीछे हरितकुंज अपार्टमेंट में रहते थे।
सोमवार रात वह राज नर्सिंग होम के मालिक डॉ. मुकुल सिंह के साथ फॉर्च्युनर गाड़ी से इलाहाबाद के ताराचंद हॉस्टल गए थे। रात में लगभग 2:30 बजे किसी से हॉस्टल के बाहर राजेश का विवाद हो गया। जिसके बाद अज्ञात लोगों ने उन्हें गोली मार दी। डॉ. मुकुल राजेश को आनन-फानन में एक प्राइवेट अस्पताल ले गए जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।
पुलिस ने बताया कि घटना के बाद जांच करने पहुंची पुलिस को बीएसपी नेता की गाड़ी में कुछ खोखे मिले हैं। गाड़ी में पीछे से ईंट-पत्थर मारे जाने के निशान हैं।
रोडवेज बस में लगाई आग
राजेश यादव के समर्थकों ने उनकी मौत की सूचना के बाद जमकर हंगामा किया। इलाहाबाद शहर के इंडियन चौराहे पर भारी बवाल कर पथराव किया। यहां खड़ी एक रोडवेज बस को आग लगा दी। राजेश यादव के समर्थकों ने उधर से निकल रहे हर आदमी को निशाना बनाया। उनकी हत्या पर खूब पत्थरबाजी और आगजनी हुई। आरोप है कि समर्थकों ने विरोध में 10 राउंड फायरिंग की।
इंजीनियर से बने नेता
राजनीति में आने से पहले राजेश पेशे से इंजीनियर थे। वह समुद्र के अंदर पाइप लाइन बिछाने का काम करते थे। उन्होंने दुबई और मॉरिशस में भी इंजीनियर के तौर पर काम किया। राजेश डीघ ब्लॉक से जिला पंचायत अध्यक्ष भी रह चुके थे। साल 2010 में जिला पंचायत सदस्य निर्वाचित होने के बाद से ही राजनीति में सक्रिय हुए और राजेश यादव को 2009 में बीएसपी का प्रभारी बनाया गया था। 2017 में बाहुबली विजय मिश्रा के खिलाफ राजेश यादव चुनाव मैदान में उतरे थे।
-एजेंसी