मोदी से मुकाबले को विपक्षी मुख्‍यमंत्री बनाएं यूनियन ऑफ स्टेट्स: ममता

कोलाकाता। केंद्र की मोदी सरकार और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। ममता बनर्जी ने संविधान के आर्टिकल-1 का हवाला देते हुए यूनियन ऑफ स्टेट्स का प्रस्ताव दिया है। जिन राज्यों में दूसरी पार्टियों की सरकारें हैं, वहां बीजेपी की कथित तानाशाही को रोकने के लिए ममता ने इसकी हिमायत की है। बुधवार को राज्य सचिवालय में भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत से ममता ने मुलाकात की। इसके बाद वह मोदी सरकार पर जमकर बरसीं।
‘मैं नेतृत्व नहीं करना चाहती, सामूहिक परिवार होगा’
ममता बनर्जी ने सभी विपक्षी पार्टियों से एक साथ आने की अपील की है। ममता ने कहा कि संविधान के संघीय ढांचे को नष्ट करने से बीजेपी को रोकने और उसकी डर्टी पॉलिटिक्स पर लगाम लगाने के लिए सभी विपक्षी पार्टियों को साथ आना चाहिए। ममता ने कहा, ‘मेरा नाम भूल जाइए। मैं इसका नेतृत्व नहीं करना चाहती। यह एक सामूहिक परिवार होगा। आइए साथ काम करते हैं।’ वहीं मुलाकात के बाद राकेश टिकैत ने ममता को प्रधानमंत्री पद के लिए फिट कैंडिडेट बताया।
‘जनवरी से किसानों से बात नहीं कर पाई मोदी सरकार’
बनर्जी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘केंद्र सरकार को जनवरी से किसानों से बात करने का मौका नहीं मिला है। किसानों के आंदोलन को गति मिलनी चाहिए और सभी विपक्षी नेताओं को इसके लिए एकजुट होना चाहिए। किसान चाहते हैं कि विपक्षी दलों के सभी मुख्यमंत्री उनके आंदोलन के समर्थन में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करें। मैं मुख्यमंत्रियों से बात करूंगी। हम एक साझा खत भी जारी करेंगे।’
‘कोरोना प्राकृतिक के साथ-साथ राजनैतिक आपदा भी’
ममता ने इस दौरान केंद्र की टीकाकरण नीति को भी कठघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि मैं महसूस करती हूं कोविड वैक्सीन पर जीएसटी लगाना अवैध और अनैतिक था। ममता ने महामारी का जिक्र करते हुए कहा कि यह ना केवल प्राकृतिक आपदा है बल्कि राजनैतिक आपदा भी है। यह लोगों की जान से खेलना है। ममता ने कहा, ‘लोगों की नौकरियां चली गईं और बहुत से लोगों की ऑक्सीजन और वैक्सीन के अभाव में मौत हो गई। बहुत सी जान बचाई जा सकती थी। प्रधानमंत्री को वैक्सीनेशन का क्रेडिट क्यों लेना चाहिए जबकि इसमें खर्च होने वाला सारा पैसा जनता का है, बीजेपी का नहीं।’ ममता ने वैक्सीनेशन के मुद्दे पर संज्ञान लेने के लिए सुप्रीम कोर्ट का शुक्रिया अदा किया।
बंगाल में 2 करोड़ लोगों को लगा कोरोना टीका
सीएम ममता बनर्जी ने कहा, ‘यहां तक कि अब भी किसी को पता नहीं कि वैक्सीन कब आएगी?’ ममता ने कहा कि बंगाल में करीब दो करोड़ लोगों को कोरोना टीका लग चुका है और हमने 200 करोड़ की वैक्सीन खरीदी है। ममता ने सवाल पूछते हुए कहा, ‘उत्तर प्रदेश और बिहार से बहकर अब बंगाल तक शव पहुंच रहे हैं। नदीं में कितने शव बहाए गए हैं?’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *