भारतीय नौसेना में पहली बार दो महिला अधिकारियों को मिली महत्‍पूर्ण तैनाती

नई दिल्‍ली। भारतीय नौसेना ने महिला अधिकारियों को महत्‍वपूर्ण तैनाती दी है। पहली बार हेलिकॉप्‍टर स्‍ट्रीम में दो महिलाओं को ‘ऑब्‍जर्वर्स’ (एयरबोर्न टैक्‍टीशियंस) के रूप में चुना गया है। इससे फ्रंटलाइन जंगी जहाजों पर महिलाओं की तैनाती का रास्‍ता साफ हो गया है। सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह को यह सम्‍मान हासिल होगा। वह भारत की पहली महिला एयरबोर्न टैक्‍टीशियंस होंगी जो जंगी जहाजों के डेक से काम करेंगी। नौसेना ने इस ऐतिहासिक कदम के लिए 17 ऑफिसर्स में से इन दो को चुना है।
सभी ‘ऑब्‍जर्वर्स’ को मिली है खास ट्रेनिंग
दोनों ‘ऑब्‍जर्वर्स’ एक खास टीम का हिस्‍सा थे। इन्‍हें एयर नेविगेशन, फ्लाइंग प्रोसीजर्स, हवाई युद्ध के दौरान की आजमाई जाने वाली तरकीबों, ऐंटी-सबमरीन वारफेयर के अलावा एवियॉनिक सिस्‍टम्‍स की भी ट्रेनिंग दी गई है। अब तक महिलाओं की एंट्री फिक्‍स्‍ड विंग एयरक्राफ्ट तक सीमित थी जो समुद्र तटों के पास ही टेकऑफ और लैंड करते थे।
17 में से दो ऑफिसर्स का नाम इतिहास में दर्ज
सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह नेवी के 17 अधिकारियों के एक ग्रुप का हिस्सा हैं। इस ग्रुप में चार महिला अधिकारी थीं। सभी को कोच्चि में आईएनएस गरुड़ पर हुए समारोह में ‘ऑब्‍जर्वर्स’ के रूप में ग्रैजुएट होने पर ‘विंग्‍स’ से सम्‍मानित किया गया था।
रियर एडमिरल ने बताया ‘ऐतिहासिक पल’
इस समारोह में चीफ स्‍टाफ ऑफिसर (ट्रेनिंग) रियर एडमिरल ऐंटनी जॉर्ज ने सभी ऑफिसर्स को अवार्ड दिए। उन्‍होंने कहा कि यह बड़ा खास मौका है जब पहली बार महिलाएं हेलिकॉप्‍टर ऑपरेशंस में ट्रेन्‍ड होकर जंगी जहाजों पर तैनात होने जा रही हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *