ONGC के अपहृत दो कर्मचारियों को मुठभेड़ के बाद छुड़ाया, तीसरे की तलाश

नागालैंड में भारत-म्यांमार सीमा के पास आज सुबह मुठभेड़ के बाद ONGC के दो कर्मचारियों को छुड़ा लिया गया, जबकि तीसरे व्यक्ति की तलाश जारी है। असम पुलिस प्रमुख भास्कर ज्योति महंता ने यह जानकारी दी। बता दें कि असम-नागालैंड सीमा के पास शिवसागर जिले में लकवा तेल क्षेत्र से कुछ दिन पहले तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) के तीन कर्मचारियों को संदिग्ध उल्फा (आई) उग्रवादियों ने अगवा कर लिया था।

महंता ने बताया, ‘अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास नागालैंड के मोन जिले के जंगल में मुठभेड़ हुई। ओएनजीसी के दो कर्मचारियों को वहां से छुड़ा लिया गया। तीसरे कर्मचारी की तलाश के लिए अभियान जारी है।’ उन्होंने बताया कि नागालैंड पुलिस, भारतीय सेना और अन्य अर्द्धसैनिक बलों की संयुक्त टीम ने यह अभियान चलाया, जिन्होंने असम पुलिस से मिली खुफिया सूचना के आधार पर कार्यवाही की।

असम के डीजीपी ने छुड़ाए गए व्यक्तियों की पहचान मोहिनी मोहन गोगोई और अलाकेश सैकिया के तौर पर हुई है। सुरक्षा बल रितुल सैकिया की तलाश कर रहे हैं। उन्होंने बताया, ‘अभियान सुबह शुरू किया गया और अब भी जारी है। वहां मौजूद टीम से ब्यौरा मिलने के बाद ही हम कुछ और बता पाएंगे।’

इस मामले में सीधे तौर पर शामिल एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि उग्रवादी मुठभेड स्थल से एक एके राइफल छोड़ कर भाग गए हैं। उन्होंने कहा, ‘यह साफ है कि वे उल्फा (आई) के उग्रवादी हैं। मौके से भागते वक्त वे रितुल सैकिया को अपने साथ ले जाने में कामयाब रहे। वहां से सीमा छह-सात किलोमीटर दूर है और इसे पार करना आसान नहीं है, क्योंकि यह घने जंगलों से घिरा हुआ है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *