लोकसभा से दो महत्‍वपूर्ण बिल पास, सदन कल तक स्थगित

नई द‍िल्‍ली। लोकसभा में विपक्ष के हंगामे के बीच लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की तरफ से अधिकरण सुधार विधेयक, 2021 (Tribunal Reforms Bill 2021) पेश किया गया जिसे विपक्ष के विरोध के बावजूद पारित करा लिया गया।

इस बिल के माध्यम से विभिन्न ट्रिब्यूनल की व्यवस्था को समाप्त कर न्याय प्रणाली को सरल और व्यावहारिक बनाया जाएगा।

मोदी सरकार ने अप्रैल माह में ट्रिब्यूनल रिफार्म्स अध्यादेश लाया था जिसके बाद भारत के राष्ट्रपति ने The Tribunals Reforms (Rationalisation and conditions of Service) Ordinance, 2021 को लागू किया था।

क्या है ट्रिब्यूनल रिफार्म्स बिल 2021
ट्रिब्यूनल रिफार्म्स बिल 2021 इससे जुड़े अध्यादेश का प्रारूप है, जिसे सरकार ने पहले ही लागू किया था। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कानून का रूप देने के लिए संसद में पेश किया। इस अध्यादेश के जरिए 9 अधिनियमों के तहत अपीलीय अधिकारियों को भंग कर दिया गया और उनके कार्यों को उच्च न्यायालयों में स्थानांतरित कर दिया।

इस बिल में जो संशोधन का प्रावधान है, उसके तहत 9 अधिनियमों के तहत इन अपीलीय न्यायाधिकरणों को भंग कर दिया।

सिनेमैटोग्राफ अधिनियम, 1952
कॉपीराइट अधिनियम, 1957
ट्रेड मार्क्स एक्ट, 1999
सीमा शुल्क अधिनियम, 1962
भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण अधिनियम, 1994
सामान का भौगोलिक संकेत (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम, 1999
राष्ट्रीय राजमार्ग नियंत्रण (भूमि और यातायात) अधिनियम, 2002
पौध किस्मों और किसानों के अधिकारों का संरक्षण अधिनियम, 2001
पेटेंट अधिनियम, 1970

इस बिल में ये प्रस्ताव रखा गया है कि ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्ति केंद्र सरकार द्वारा एक खोज-व चयन समिति द्वारा की गई सिफारिशों के आधार पर की जाएगी। समिति में भारत के मुख्य न्यायाधीश, केंद्रीय सरकारों द्वारा नामित सचिव, मंत्रालय के सचिव शामिल होंगे, जिसके तहत न्यायाधिकरण का गठन किया जाता है।

अनिवार्य रक्षा सेवा विधेयक लोकसभा से पारित

अनिवार्य रक्षा सेवा विधेयक, 2021 लोकसभा में पेश किया गया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस विधेयक को राष्ट्र की सुरक्षा के लिहाज से महत्वपूर्ण बताते हुए पास कराने की अपील की। लोकसभा में ये विधेयक आसानी से पारित हो गया। इस विधेयक के पारित होते ही लोकसभा अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही को शाम 4 बजे तक स्थगित कर दिया।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *