महामारी के दौर में ट्रंप की नजर चांद पर, खनन के आदेश दिए

वॉशिंगटन। पूरी दुनिया इस वक्त चिंता में है कि कोरोना वायरस के खतरे का सामना कैसे करे लेकिन अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की निगाहें चांद पर टिकी हैं।
उन्होंने एक आदेश जारी किया है जिससे अमेरिका को चांद पर खनिजों के खनन की इजाजत मिलती है।
गौर करने वाली बात यह है कि ट्रंप के इस आदेश से यह संकेत मिलता है कि चांद पर खनन के लिए किसी अंतर्राष्ट्रीय समझौते की जरूरत ही नहीं है।
अंतर्राष्ट्रीय कानून की जरूरत नहीं
ट्रंप के आदेश में कहा गया है, ‘अमेरिका के पास अंतरिक्ष के संसाधनों को खोजने और उनके व्‍यावसायिक इस्तेमाल करने के लिए संभावना ढूंढने का अधिकार है।’
इस आदेश में यह भी कहा गया है कि अमेरिका ने 1979 की ‘मून ट्रीटी’ को कभी साइन ही नहीं किया। इस समझौते के तहत स्पेस में किसी भी तरह के काम के लिए अंतर्राष्ट्रीय कानूनों का पालन होना चाहिए। यहां तक कि 2015 में अमेरिका की संसद कांग्रेस ने एक कानून पास करके अमेरिकी कंपनियों को चांद और एस्टरॉइड के खनन संसधानों की इजाजत दे दी।
रुकावट हुई तो विरोध करेगा US
ट्रंप के आदेश के मुताबिक अमेरिका ऐसे किसी भी कदम का विरोध करेगा जिसमें अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत चांद पर खनन के लिए रुकावट पैदा हो। ट्रंप के ऑर्डर में कहा गया है कि सरकार को कमर्शल कंपनियों के साथ पार्टनरशिप करनी होगा जिससे स्पेस में पानी और खनिज जैसे संसाधनों की खोज और इस्तेमाल की जा सके। हालांकि यह साफ नहीं है कि प्राइवेट सेक्टर को चांद पर खनन में क्या दिलचस्पी है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »