ट्रंप ने कहा, बाइडन के अमरीका में कोई भी सुरक्षित नहीं रहेगा

वॉशिंगटन। दूसरे कार्यकाल के लिए रिपब्लिकन पार्टी का नामांकन स्वीकार करते हुए राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा कि वो अकेले समाजवाद, अराजकता और अतिवाद जैसी ताक़तों के ख़िलाफ़ दीवार बनकर खड़ें हैं.
‘लेकिन अगर डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बाइडन नवंबर में चुने जाते हैं तो इनके चैंपियन होंगे.’
उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि बाइडन के जीतने से देश का मौजूदा संकट और गहरा जाएगा. ट्रंप ने ये सब व्हाइट हाउस के साउथ लॉन में खड़े होकर कहा जबकि इस बात की आलोचना की जा रही है कि वो राष्ट्रपति के आवास को राजनीति के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं.
रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन की चौथी और आख़िरी रात में ट्रंप ने कहा कि “ये चुनाव तय करेगा कि हम अमरीकी सपने को बचाते हैं या हम एक समाजवादी एजेंडे को अपनी मेहनत से बनाई तक़दीर तबाह करने की अनुमति देते हैं.”
“ये चुनाव तय करेगा कि हम क़ानून का पालन करने वाले अमरीकियों की रक्षा करते हैं या हम अपने नागरिकों को धमकाने वाले हिंसक अराजक आंदोलनकारियों और अपराधियों को खुली छूट देते हैं.”
कोरोना वायरस महामारी के बावजूद ट्रंप ने 1,000 से ज़्यादा लोगों के सामने अपना भाषण दिया. उनके सामने दर्जनों अमरीका झंडे लहरा रहे थे और नारे लगाए जा रहे थे – “चार साल और!” और “यू.एस.ए!”
हालांकि और चार साल के कार्यकाल की मांग कर रहे ट्रंप आउटसाइडर ही बने रहे हैं. इसी तरीक़े से उन्हेंने पहले भी चुनाव जीता था. 2016 में पहली बार राष्ट्रपति पद उन्होंने अपराध और हिंसा को ख़त्म करने के वादे के साथ जीता था.
उनके साथ-साथ कुछ अन्य रिपब्लिकन नेताओं ने अपने भाषण में कहा कि नस्लीय तनाव के लिए ट्रंप प्रशासन को नहीं बल्कि केनोशा, विस्कॉन्सिन जैसे शहरों के राज्य और शहरी डेमोक्रेटिक नेताओं को दोषी ठहराया जाना चाहिए. इस शहर में इस हफ़्ते पुलिस ने एक काले शख़्स को गोली मारी थी, जिसके बाद उस शख़्स लकवा मार गया.
ख़ुद के दौर में अशांति बढ़ने की बात के बावजूद उन्होंने कहा, “बाइडन के अमरीका में कोई भी सुरक्षित नहीं रहेगा.”
इसके बाद बाइडन ने एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा, “जब डोनल्ड ट्रंप ने आज रात कहा कि आप जो बाइडन के अमरीका में सुरक्षित नहीं रहेंगे, तो अपने आस-पास देखिए और ख़ुद से पूछिए: डोनाल्ड ट्रंप के अमरीका में आप कितना सुरक्षित महसूस करते हैं?”
ट्रंप का भाषण बाइडन के पिछले हफ़्ते के भाषण से बिल्कुल अलग था. महामारी के दौर में बाइडन ने लगभग ख़ाली स्टेडियम में भाषण दिया था, जिसे लाइव ब्रॉडकास्ट किया गया था.
ट्रंप के भाषण के दौरान भीड़ कुर्सियों पर कुछ इंच की दूरी पर बैठी थी, स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सलाह के बावजूद सोशल डिस्टेंसिंग या फेस मास्क का कम ही इस्तेमाल दिखा.
कोरोना वायरस के चलते दोनों राजनीतिक पार्टियों ने अपने कन्वेंशन बढ़ा दिए हैं और ज़्यादातर इवेंट वर्चुअल हो रहे हैं. ट्रंप की कैंपेन टीम का कहना है कि वो ज़रूरी स्वास्थ्य सावधानियों का ध्यान रख रहे हैं.
हालांकि ट्रंप के भाषण स्थल के नज़दीक ही एंटी-ट्रंप प्रदर्शनकारियों की आवाज़ें भी सुनी गईं.
बाइडन कैंप की प्रतिक्रिया क्या है
बराक ओबामा के उपराष्ट्रपति रहे डेमोक्रैटिक पार्टी के राष्ट्रपति उम्मीदवार जो बाइडन ने एमएसएनबीसी से कहा था, “हमारी समस्या यह है कि हम डोनाल्ड ट्रंप के अमरीका में हैं. वह इसे अपने राजनीतिक फ़ायदे के तौर पर देखते हैं. वह कम नहीं बल्कि ज़्यादा हिंसा चाहते हैं. वह आग में घी डाल रहे हैं.”
गुरुवार रात को वीडियो के ज़रिये बाइडन ने कहा था कि वह फिर से ज़मीन पर प्रचार अभियान शुरू करना चाहते हैं.
ट्रंप के प्रचार अभियान के दौरान बाइडन की इस बात के लिए खिल्ली उड़ाई थी कि वह कोरोना रोकने के लिए लागू किए गए नियमों का हवाला देकर डेलवेयर में अपने घर के बेसमेंट से प्रचार अभियान चला रहे हैं.
जो बाइडन के साथ उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस ने इससे पहले गुरुवार को व्हाइट हाउस से कुछ मीटर दूर भाषण दिया था और कहा था, “डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति पद की अहमियत नहीं समझते.”
उन्होंने कहा, “डोनाल्ड ट्रंप अमरीका के राष्ट्रपति की बुनियादी और महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों को निभाने में विफल रहे हैं. सीधे-सीधे वह अमरीकी लोगों को सुरक्षा देने में नाकाम रहे हैं.” हालांकि, भाषण के बाद कैलिफ़ोर्निया से सीनेटर कमला ने पत्रकारों से बात नहीं की.
ऐसी ख़बरें हैं कि बाइडन को शुक्रवार को 160 ऐसे लोगों का समर्थन मिलने वाला है जो राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश या रिपब्लिकन प्रत्याशी रहे मिट रोमनी और जॉन मैकेन के साथ काम कर चुके हैं.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *