मोदी की शान में ट्रंप ने कसीदे पढ़े, भारतीय पत्रकारों को भी सराहा

न्यू यॉर्क। पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के बीच मंगलवार को हुई द्विपक्षीय बैठक में जबरदस्त केमिस्ट्री देखने को मिली। दोनों नेताओं ने एक-दूसरे की जमकर तारीफ की और दोनों देशों के बीच मजबूत रिश्ते पर जोर दिया।
ट्रंप ने पीएम मोदी को ‘फादर ऑफ इंडिया’ से लेकर भारत का एल्विस प्रेस्ली तक बताया।
आतंकवाद को लेकर सवाल पूछने पर ट्रंप ने साफ किया कि इसे पीएम मोदी संभाल लेंगे। ट्रंप ने ट्विटर पर एक वीडियो भी शेयर किया जिसमें दुनिया के कई देशों के नेताओं से उनकी मुलाकात में पीएम मोदी संग बैठक को भी प्राथमिकता दी गई है। खास बात यह है कि इस वीडियो में पाकिस्तान को भाव नहीं दिया गया है। पीएम मोदी ने भी ट्रंप को भारत का अच्छा मित्र बताते हुए हाउडी मोदी में आने के लिए उनका शुक्रिया अदा किया।
आइए जानते हैं मोदी-ट्रंप के बीच हुई द्विपक्षीय बैठक की बड़ी बातें…
मोदी फादर ऑफ इंडिया हैं: ट्रंप
-डोनल्ड ट्रंप ने कहा, ‘मुझे वह भारत याद है, जो काफी बंटा हुआ था। वहां काफी मतभेद, लड़ाई थी, लेकिन वह (पीएम मोदी) सबको साथ लेकर आए। जैसे कि एक पिता सबको साथ लाता है। शायद वह भारत के पिता हैं। हम उन्हें फादर ऑफ इंडिया बुलाएंगे।’
‘मोदी एल्विस प्रेस्ली के इंडियन वर्जन’
-जब ट्रंप से ह्यूस्टन में हाउडी मोदी इवेंट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘मेरी दाईं तरफ जो बैठे हैं लोग उन्हें पसंद करते हैं। लोग पागल हो जाते हैं, वह एल्विस के इंडियन वर्जन हैं।’ बता दें कि एल्विस प्रेस्ली अमेरिकी सिंगर और एक्टर थे। उन्हें ‘किंग ऑफ रॉक ऐंड रोल’ कहा जाता था।
मध्यस्थता पर राष्ट्रपति ट्रंप ने बनाई दूरी
-अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारत और पाकिस्तान के बीच किसी तरह की मध्यस्थता से दूरी बनाते हुए कहा कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान कश्मीर पर कोई हल निकाल सकें तो यह अच्छा होगा।
-ट्रंप ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि प्रधानमंत्री मोदी और प्रधानमंत्री खान जब एक-दूसरे को अच्छी तरह जान जाएंगे तो मुलाकात करेंगे। मुझे लगता है कि मुलाकात से बहुत सारी अच्छी चीजें निकलकर आएंगी। यह अच्छा होगा अगर वे कश्मीर पर कोई हल निकाल सकें।
आतंक पर बोले, पीएम मोदी हल निकाल लेंगे
-पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI द्वारा अलकायदा के आतंकियों को ट्रेनिंग देने की बात इमरान खान द्वारा स्वीकारने को लेकर पूछे गए सवाल पर ट्रंप ने कहा कि पीएम मोदी इस मामले को देख लेंगे। उन्होंने कहा कि आपके पास बहुत अच्छे प्रधानमंत्री हैं, वह सभी समस्याएं हल कर लेंगे। ट्रंप ने आतंकवाद के मुद्दे पर पीएम मोदी के बयान का भी समर्थन किया। ट्रंप ने कहा कि पीएम मोदी ने तेज आवाज और स्पष्ट लहजे में संदेश दे भी दिया है।
बता दें कि मोदी ने 22 सितंबर को अमेरिकी शहर ह्यूस्टन में आयोजित हाउडी मोदी मेगा रैली में कहा था कि आतंकवाद का समर्थन करने वाले और आतंकवादियों को पालने वाले के खिलाफ निर्णायक लड़ाई का वक्त आ गया है।
ट्रेड डील पर ट्रंप, जल्द होगी
-ट्रंप ने कहा कि उनका देश जल्द ही भारत के साथ व्यापार समझौता भी करेगा। उन्होंने कहा कि अमेरिका भारत के साथ एक व्यापार समझौते पर पहुंच जाएगा। इससे दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों को और मजबूती मिलेगी। दोनों देश व्यापार समझौते पर बातचीत कर रहे हैं और कई जटिल मुद्दों को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है।
भारत में कट्टरपंथी मुस्लिमों की संख्या काफी कम: मोदी
-पीएम मोदी ने भारत को दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी का घर बताते हुए कहा कि इस आबादी में से कट्टरपंथियों की संख्या बहुत कम है।
‘पाकिस्तान के रवैये में कोई सुधार नहीं’
-पीएम मोदी ने पाकिस्तान के संबंधों को लेकर कहा कि हमने पाकिस्तान को संबंध सुधारने के कई मौके दिए। पीएम ने पहली सरकार के गठन के वक्त नवाज शरीफ को बुलाने और 2015 में लाहौर विजिट के बारे में भी जानकारी देते हुए कहा कि इसके बाद भी पाकिस्तान के रवैये में कोई सुधार नहीं है।
व्यापार पर क्या बोले पीएम
-भारतीय पीएम ने कहा कि जहां तक व्यापार का संबंध है तो मैं बहुत खुश हूं कि ह्यूस्टन में मेरी मौजूदगी में भारतीय कंपनी पेट्रोनेट ने 2.5 अरब डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किए और इसका मतलब है कि आने वाले वर्षों में इससे 60 अरब डॉलर का व्यापार होगा और 50,000 नौकरियां पैदा होंगी जो मेरे हिसाब से भारत द्वारा की गई बड़ी पहल है।
-मोदी ने ट्रंप की तारीफ करते हुए उन्हें भारत का अच्छा दोस्त बताया और हाउडी, मोदी रैली में अमेरिकी राष्ट्रपति के शिरकत करने पर खुशी जताई। उन्होंने कहा, ‘मैं ट्रंप का आभारी हूं कि वह ह्यूस्टन आए। वह मेरे मित्र हैं लेकिन वह भारत के भी अच्छे मित्र हैं।’
आपके रिपोर्टर शानदार हैं

न्‍यू यॉर्क में मीडिया से बात करते वक्‍त डोनल्‍ड ट्रंप और इमरान खान
न्‍यू यॉर्क में मीडिया से बात करते वक्‍त डोनल्‍ड ट्रंप और इमरान खान

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप जब सोमवार को पाक पीएम इमरान खान से मिले तो उन्होंने पाक पत्रकारों की जमकर खिंचाई की थी। कश्मीर पर उनके हर सवाल पर ट्रंप ने मजे लिए। एक दिन बाद वह पीएम मोदी के साथ बैठे तो भारतीय पत्रकारों के लिए भी वही लाइन इस्तेमाल की। हालांकि यह तारीफ के लहजे में थी। मंगलवार को ट्रंप से पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद के बारे सवाल किए जा रहे थे तो उन्होंने पीएम मोदी की तरफ इशारा करते हुए कहा, ‘आपके रिपोर्टर शानदार हैं। काश! ऐसे पत्रकार मेरे पास भी होते। मैंने अब तक जिन्हें सुना है ये सबसे बेहतर हैं। आपको ये रिपोर्टर्स कहां से मिले। यह बड़ी बात है।’ ट्रंप जब यह कह रहे थे तो मोदी ही नहीं वहां बैठा हर कोई मुस्कुरा रहा था।
दिलचस्प यह है कि एक दिन पहले ट्रंप ने पाक पत्रकारों का खूब मजाक उड़ाया था। कश्मीर पर एक के बाद एक झूठे सवालों को लेकर ट्रंप ने मजे लिए तो इमरान खान भी झेंप गए। उस दिन एक पाकिस्तानी पत्रकार ने कश्मीर में स्थिति को लेकर सवाल किया था तो राष्ट्रपति ट्रंप ने उसका मजाक उड़ाते हुए पूछा कि क्या वह खान की टीम के सदस्य हैं? अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘क्या आप उनकी (इमरान खान की) टीम में हैं? आप बयान दे रहे हैं, सवाल नहीं पूछ रहे हैं।’
एक अन्य पाकिस्तानी पत्रकार ने कश्मीर में मानवाधिकार के कथित उल्लंघन को लेकर सवाल किया तो ट्रंप ने खान की ओर रुख कर उनसे पूछा, ‘आपको इनके जैसे पत्रकार कहां से मिले।’ जब ट्रंप पाकिस्तानी पत्रकारों पर तंज कस रहे थे तब प्रधानमंत्री खान तस्बीह पढ़ते (माला जपते) दिखे। आपको बता दें कि ट्रंप अमेरिका के मीडिया संस्थानों पर ‘फर्जी खबरें’ चलाने का आरोप लगाते रहे हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *