यूपी के खनन घोटाले की जांच कर रहे सीबीआई अधिकारी का ट्रांसफर

लखनऊ। यूपी में अवैध रेत खनन घोटाले में समाजवादी अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव की भूमिका की जांच कर रहे सीबीआई अधिकारी डीआईजी गगनदीप गंभीर का ट्रांसफर कर दिया गया है। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक, गगनदीप खनन घोटाले में अखिलेश के साथ दूसरे अधिकारियों की भी भूमिका की जांच कर रहे थे, उनका तबादला स्पेशल क्राइम यूनिट से ऐंटी करप्शन यूनिट में कर दिया गया है।
गगनदीप की जगह अब सीबीआई के डेप्युटी डायरेक्टर रह चुके अनीश प्रसाद रेत खनन घोटाले की जांच करेंगे। वहीं गगनदीप अब बिहार के सृजन घोटाले और पत्रकार उपेंद्र राय मामले की जांच सौंपी गई है। शनिवार को सीबीआई ने अवैध खनन घोटाले के मामले में यूपी और दिल्ली की 12 जगहों पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान भारी मात्रा में नकदी और सोना सहित अवैध रेत खनन से संबंधित सामग्री बरामद की गई।
बता दें कि यूपी की चर्चित आईएएस अधिकारी बी. चन्द्रकला के आवास पर सीबीआई छापों के बाद अब अवैध रेत खनन मामले की आंच पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव तक पहुंचती दिख रही थी। यही नहीं सीबीआई ने अपनी एफआईआर में लिखा था कि सीबीआई के मुताबिक 2011 के बाद से यूपी के सभी खनन मंत्रियों से पूछताछ हो सकती है। बता दें कि 2012-13 में खनन मंत्रालय तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के पास था। एफआईआर में कहा गया है, ‘मामले की छानबीन के दौरान संबंधित अवधि में तत्कालीन खनन मंत्री की भूमिका की भी जांच हो सकती है।’
क्या है आरोप
आरोप है कि 2012 से 2016 के बीच मिलीभगत करके अवैध खनन की इजाजत दे दी गई थी। एनजीटी की रोक के बावजूद खनन के लाइसेंस रिन्यू कर दिए गए थे। हाई कोर्ट ने शामली, हमीरपुर, फतेहपुर, देवरिया और सिद्धार्थ नगर में अवैध रेत खनन के आरोपों की जांच का आदेश दिया था। सीबीआई प्रवक्ता ने बताया कि इस मामले में 2 जनवरी को 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया था।
शनिवार को सबसे लंबी छापेमारी चर्चित आईएएस अधिकारी बी. चंद्रकला के लखनऊ स्थित घर पर हुई। सीबीआई ने अहम दस्तावेज बरामद करने के अलावा चंद्रकला के दो बैंक खाते और एक बैंक लॉकर भी जब्त किए गए। हमीरपुर में माइनिंग अफसर मोइनुद्दीन के यहां से साढ़े 12 लाख रुपये और 1.8 किलो गोल्ड बरामद हुआ। जालौन में रिटायर्ड क्लर्क रामअवतार के घर से 2 करोड़ कैश और 2 किलो गोल्ड मिला।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *