टूलकिट अपलोड करने वाले का आईपी एड्रेस लेने को गूगल से क‍िया संपर्क

नई द‍िल्ली। किसान आंदोलन को लेकर ट्व‍िटर के माध्यम से व‍िदेशी कुप्रचार मामले में अब दिल्ली पुलिस गूगल से उस आईपी एड्रेस और लोकेशन की जानकारी मांगेगी जहां से पहली बार टूलकिट को गूगल डॉक्स पर अपलोड किया गया था। दिल्ली पुलिस के सूत्रों के अनुसार आईपी एड्रेस और लोकेशन के जरिए उस शख्स को ढूंढ़ने में मदद मिलेगी जिसने टूलकिट को तैयार किया और गूगल डॉक्स पर अपलोड किया।

गौरतलब है क‍ि कल ही दिल्ली पुलिस ने ग्रेटा थनबर्ग द्वारा शेयर किए गए टूलकिट के लेखक के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी क्राइम प्रवीर रंजन ने 26 जनवरी के दिन हुई हिंसा को सुनियोजित साजिश भी बताया। साथ ही ये भी कहा कि एफआईआर टूलकिट के लेखक के खिलाफ दर्ज की गई है, ना कि ग्रेट थनबर्ग के खिलाफ। बता दें कि पहले सोशल मीडिया पर अफवाह उड़ी थी कि एफआईआर ग्रेटा थनबर्ग के खिलाफ हुई है।

बता दें कि स्वीडन की ग्रेटा थनबर्ग ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, ‘मैं अभी भी किसानों के साथ खड़ी हूं और उनके शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन का समर्थन करती हूं। नफरत, धमकी या मानवाधिकारों के उल्लंघन की किसी भी कोशिश से यह नहीं बदलेगा।’

इससे पहले बुधवार को ग्रेटा ने एक खबर का लिंक साझा किया था और कहा था, ‘हम भारत में किसान आंदोलन के साथ एकजुटता से खड़े हैं।’ इसके साथ ही उन्होंने ट्विटर पर एक टूलकिट साझा की थी। यह टूलकिट यूजर्स को प्रदर्शन के समर्थन के तरीकों की विस्तृत जानकारी वाले दस्तावेज तक पहुंच उपलब्ध करवा रहा था। हालांकि बाद में उन्होंने टूलकिट वाले ट्वीट को डिलीट कर दिया और फिर एक अन्य टूलकिट जारी किया।

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *