टोक्यो ओलंपिक: गोल्ड में बदल सकता है मीराबाई चानू का रजत पदक

टोक्यो ओलंपिक में भारोत्तोलन का स्वर्ण पदक जीतने वाली चीन की भारोत्तोलक झीहुई होऊ से गोल्ड वापस लिया जा सकता है। दरअसल, झीहुई का डोपिंग रोधी अधिकारियों द्वारा टेस्ट किया जाएगा और यदि वह इसमें विफल रहती हैं, तो भारतीय भारत्तोलक मीराबाई चानू के रजत पदक को गोल्ड में बदल दिया जाएगा।

सामचार एजेंसी एएनआई ने घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले एक सूत्र के हवाले से बताया, ‘होऊ को टोक्यो में रहने के लिए कहा गया है और इस दौरान उनका डोपिंग टेस्ट किया जाएगा।’

बता दें कि चीनी खिलाड़ी झीहुई होउ ने ओलंपिक के दूसरे दिन यानी शनिवार को कुल 210 किग्रा का भार उठाकर स्वर्ण पदक जीता था और एक नया ओलंपिक रिकॉर्ड भी बनाया था।

बात करें नियमों की तो इसमें स्पष्ट रूप से कहा गया है कि अगर कोई एथलीट डोपिंग टेस्ट में फेल हो जाता है, तो सिल्वर जीतने वाले एथलीट को गोल्ड से सम्मानित किया जाएगा। मीराबाई चानू ने शनिवार को टोक्यो इंटरनेशनल फोरम में महिलाओं के 49 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीतकर भारत को पहला पदक दिलाया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *