टोक्यो ओलिंपिक: चक्का फेंक में कमलप्रीत कौर ने किया धमाकेदार प्रदर्शन

टोक्यो ओलिंपिक में शनिवार को चक्का फेंक भारतीय एथलीट कमलप्रीत कौर ने धमाकेदार प्रदर्शन कर फाइनल के लिए स्वत: क्वालीफाई किया वहीं अनुभवी सीमा पूनिया ने निराश किया। सीमा फाइनल में पहुंचने में असफल रहीं।
दूसरी ओर वंदना कटारिया की शानदार हैट्रिक के दम पर भारतीय महिला हॉकी टीम ने शनिवार को खेले गए अपने अंतिम ग्रुप मैच में दक्षिण अफ्रीका को 4-3 से हराकर नॉकआउट में पहुंचने की उम्मीदों को कायम रखा है। वंदना ने भारत के लिए चौथे, 17वें और 49वें मिनट में गोल किए। भारत के लिए चौथा गोल नेहा ने 32वें मिनट में किया। ग्रुप-ए में दक्षिण अफ्रीका की यह लगातार पांचवीं हार है।
भारत को पांच मैचों में दूसरी जीत मिली है। शुरुआती तीन मुकाबले गंवाने के बाद भारत ने दो मैच जीते हैं। अब भारत को ब्रिटेन और आयरलैंड के बीच होने वाले मुकाबले का इंतजार है। ब्रिटेन के हाथों आयरलैंड की हार भारत को आगे ले जाएगी। और अगर आयरलैंड जीत जाता है तो भारत बाहर हो जाएगा क्योंकि तब आयरलैंड अंकों के मामले में भारत की बराबरी पर आ जाएगा और गोल डिफरेंस के मामले में आगे निकल जाएगा।
प्रत्येक ग्रुप से चार-चार टीमों को नॉकआउट में जाना है। अभी भारत के पांच मैचों से छह अंक हैं। उसका गोल डिफरेंस -7 है। इस ग्रुप से ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी और ब्रिटेन पहले ही नॉकआउट में पहुंच चुके हैं। एक स्थान बचा है, जिसके लिए भारत को आयरलैंड के बीच घमासान है।
भारत को टोक्यो ओलिंपिक में अभी तक मीराबाई चानू ने ही एकमात्र पदक दिलाया है।
हालांकि 24 वर्षीय भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने महिला मुक्केबाजी के सेमीफाइनल में पहुंचकर कांस्य पदक पक्का कर लिया है।
बॉक्सर अमित पंघाल ने तोड़ी उम्मीदें
भारत की पदक उम्मीद मुक्केबाज अमित पंघाल (52 किलो) प्री क्वार्टर फाइनल में रियो ओलिंपिक के रजत पदक विजेता कोलंबिया के युबेरजेन मार्तिनेज से 1-4 से हारकर तोक्यो ओलिंपिक से बाहर हो गए। शीर्ष वरीयता प्राप्त पंघाल का यह पहला ओलिंपिक है और उन्हें पहले दौर में बाई मिला था।
पहले ही दौर से कोलंबियाई मुक्केबाज ने पंघाल पर दबाव बना दिया लेकिन पंघाल ने वापसी करके पहले तीन मिनट में 4-1 से जीत दर्ज की। इसके बाद मार्तिनेज की रफ्तार का वह सामना नहीं कर सके।
दूसरे दौर में उन्होंने पंघाल पर जबर्दस्त प्रहार किया जिसका भारतीय मुक्केबाज जवाब नहीं दे सके। यह सिलसिला आखिरी तीन मिनट में भी जारी रहा और पंघाल सिर्फ बचाव करते रहे। एशियाई खेल 2018 में स्वर्ण पदक और विश्व चैम्पियनशिप 2019 में रजत पदक जीतने वाले पंघाल ने एशियाई खेलों में तीन बार पदक जीता है।
तीरंदाज अतानु तोक्यो ओलिंपिक से बाहर
भारतीय तीरंदाज अतानु दास की शनिवार को तोक्यो ओलिंपिक में चुनौती खत्म हो गई। अतानु को पुरुषों के व्यक्तिगत स्पर्धा के प्री क्वार्टर फाइनल में खिताब के प्रबल दावेदार जापान के तीरंदाज ताकाहारू फुरुकावा ने 6-4 से पराजित किया।
पहले सेट में अतानु 25-27 के स्कोर के साथ पिछड़ गए। स्कोर 0-2 हो गया था। इसके बाद दूसरे सेट में दोनों खिलाड़ी 28-28 से बराबर रहे। दोनों क एक-एक अंक मिला। स्कोर 1-3 हो गया था। अतानु ने तीसरा सेट 28-27 से जीतते हुए 3-3 की बराबरी कर ली। चौथा सेट भी 28-28 से बराबर रहा। स्कोर अब 4-4 चुका था। पांचवें सेट में अतानु 26-27 से पीछे रह गए और जापानी खिलाड़ी ने इस सेट से दो अंक लेकर 6-4 से मुकाबला जीत लिया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *