टोक्यो ओलंपिक: भारतीय मुक्केबाज़ लवलीना बोरगोहाईं को कांस्‍य पदक

टोक्यो ओलंपिक के वेल्टरवेट महिला मुक्केबाज़ी के सेमी फ़ाइनल मुक़ाबले में बुधवार को भारतीय मुक्केबाज़ लवलीना बोरगोहाईं ने कांस्‍य पदक हासिल किया. दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी तुर्की की बुसेनाज़ सुर्मेनेली ने उन्‍हें हराया.
लवलीना ने भारत के लिए दूसरा ओलंपिक मेडल पीवी सिंधु के कांस्य पदक जीतने से पहले ही 30 जुलाई को सुनिश्चित कर लिया था.
सेमीफ़ाइनल में जीतकर उनके पास कांस्य को रजत पदक में बदलने का मौक़ा था लेकिन तुर्की की शीर्ष वरीयता खिलाड़ी के आगे लवलीना टिक नहीं पाईं. पहले ही राउंड में सुर्मेनेली ने उन्हें हरा दिया और आगे का मैच बहुत आसानी से तुर्की की खिलाड़ी ने जीत लिया.
बीते शुक्रवार को उन्होंने वेल्टरवेट क्वार्टर फ़ाइनल मुकाबले में चीनी ताइपे की निएन-चिन चेन को हराकर सेमीफ़ाइनल में जगह बनाई थी. ओलंपिक के प्री क्वार्टर फ़ाइनल में उन्हें बाई मिला था जबकि राउंड-16 में जर्मनी की खिलाड़ी को हराकर वो क्वार्टर फ़ाइनल में पहुँची थीं.
राउंड-16 में उन्होंने जर्मनी की नडीन अपेत्ज़ को 3-2 से हराया था.
क्वार्टर फ़ाइनल मुक़ाबले में उन्होंने निएन-चिन चेन नाम की जिस खिलाड़ी के ख़िलाफ़ जीत हासिल की थी, वो पूर्व विश्व चैम्पियन हैं और अब तक के कई मुक़ाबलों में लवलीना उनसे हारती आई थीं. लवलीना 2018 के वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी उनसे हार गई थीं.
लेकिन शुक्रवार की लवलीना की जीत कोई मामूली जीत नहीं थी उन्होंने अपनी विरोधी खिलाड़ी को 4-1 से मात दी थी जो कि बहुत बड़ी जीत थी.
बुधवार को हुए सेमी फ़ाइनल के उनके मैच को असम में गोलाघाट ज़िले के उनके गांव में भी देखा गया.
यह मैच लोगों ने मोबाइल फ़ोन पर देखा. हालांकि, उनके घर पर कोई मैच नहीं देख रहा था और उनके पिता ने ख़ुद को एक कमरे में बंद कर लिया था.
कौन हैं लवलीना बोरगोहाईं
पूर्वोत्तर राज्य असम से ओलंपिक खेलों तक जाने वाली वो पहली महिला बॉक्सर हैं. वो 69 किलोग्राम वेल्टरवेट वर्ग में खेलती हैं.
भारत के छोटे गाँवों-कस्बों से आने वाले कई दूसरे खिलाड़ियों की तरह ही 23 साल की लवलीना ने भी कई आर्थिक दिक़्क़तों के बावजूद ओलंपिक तक का रास्ता तय किया है.
लवलीना को माइक टाइसन का स्टाइल पसंद है तो मोहम्मद अली भी उन्हें उतने ही प्रिय हैं. लेकिन इन सबसे अलग उन्हें अपनी अलग पहचान भी बनानी थी.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *