संस्कृति विवि में आयोज‍ित हुआ Entrepreneurship प्रोग्राम

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय में एग्रीकल्चर विभाग ने 3 दिवसीय Entrepreneurship प्रोग्राम का आयोजन किया। कार्यक्रम के दौरान आए विशेष अतिथियों ने छात्र-छात्राओं को सरकार की लाभकारी योजनाओं, बैंक ऋण सुविधाओं और तकनीकियों की जानकारी देते हुए आह्वान किया कि आप रोजगार की तलाश छोड़ अपना विकास इस तरह से करें की कई और लोगों को रोजगार दे सकें। अपनी योग्यता से रोजगार पा सकते हैं। अच्छा पैकेज भी मिल सकता है, लेकिन अपना रोजगार शुरू कर आप कहीं अधिक स्वयं कमा सकते हैं, साथ ही साथ तमाम अन्य युवाओं को रोजगार देकर देश के विकास में सहयोग कर सकते हैं।

कार्यक्रम के दौरान भारत सरकार के MSME-Development Institute, Agra (Formerly Small Industries ) के पूर्व निदेशक आरके कपूर ने छात्र-छात्राओं से कहा कि अच्छे पैकेज पर नौकरी गिनती के य़ुवाओं को मिल पाती है। वैसे भी अगर आप नौकरी मन बहलाने के लिए या अपने मनोरंजन के लिए करना चाहते हैं तो करें, वरना नौकरी से अच्छा होगा यदि आप कोई अपना काम करें और दूसरों को नौकरी दें। स्वयं उद्यमी बनें। आप जिंदगी को बेहतर तरीके से जी सकेंगे। टाइम शिड्यूल अच्छा बनाएंगे तो अपने परिवार को भी समय दे सकेंगे। अगर सही सोच और अच्छे आइडिया के साथ काम शुरू करेंगे तो मुनाफा होगा। रोजगार सभी वही हैं, बात सिर्फ उसको नए तरीके से और नई सोच के साथ करने की है। यही वजह है की अंकल चिप्स का पैकेट 20 रुपये का बिकता है और प्रिंगल का आलू के ही चिप्स का कंटेनर 150 रुपये तक बिकता है। अंतर सिर्फ इतना होता है कि प्रिंगल के कंटेनर में सारे चिप्स एक साइज़ के होते हैं।

पूर्व निदेशक ने विद्यार्थियों को MSME Centre के बारे में विस्तार से बताया कि यहां से उन्हें क्या-क्या मदद मिल सकती और वो कैसे अपने आइडिया को हकीकत का जामा पहना सकते हैं। सभागार में मंच पर मौजूद उद्यमी महेंद्र सिनसिनवार ने अपने उद्यम के विषय में बताते हुए छात्र-छात्राओं को बताया कि वे कैसे छोटे से स्तर से आगे बढ़े और मुनाफा कमाने वाले उद्यमी बने। कार्यक्रम के दौरान संस्कृति विवि के प्रोफेसर निर्मल कुंडू ने अतिथियों का परिचय दिया। स्कूल आफ एग्रीकल्चर के डीन डा. जयदेव शर्मा ने अपने उद्बोधन में छात्र-छात्राओं को खेती के क्षेत्र में कुछ नया कर पैसा और नाम कमाने की प्रेरणा दी। कार्यक्रम के अंत में स्कूल आफ एग्रमीकल्चर के एचओडी एनएन सक्सैना ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *