स्‍वतंत्रता दिवस पर इस बार लाल किले के ऊपर होगी फूलों की बारिश

नई दिल्‍ली। आजादी के त्योहार 15 अगस्त यानी स्‍वतंत्रता दिवस पर इस बार लाल किले के ऊपर हेलिकॉप्टर से फूलों की बारिश होगी। हेलिकॉप्टर देश के प्रधानमंत्री, देश-विदेश से आने वाले विशिष्ट अतिथियों, इस पर्व का साक्षी बनने वाले जवानों, कोरोना वॉरियर्स और उपस्थित अन्य लोगों पर फूलों की वर्षा करेंगे। ऐसा पहली बार होगा जब स्वतंत्रता दिवस वाले दिन लाल किले पर भी 26 जनवरी की तरह फ्लाइपास्ट करते हुए हेलिकॉप्टर से फूलों की बारिश कराई जाएगी।
पुष्पवर्षा को लेकर अधिकारियों की विजिट
सूत्रों ने बताया कि पुष्पवर्षा के कार्यक्रम के लिए लाल किले पर एयरफोर्स समेत अन्य एजेंसियों के अधिकारियों की विटिज भी हुई है ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि हेलिकॉप्टर के फ्लाइपास्ट से प्रधानमंत्री और तमाम अन्य लोगों की सुरक्षा को इससे कोई खतरा तो नहीं होगा। खासतौर से ड्रोन अटैक के खतरे की आशंका को देखते हुए।
मीणा बाजार में ‘पिक्चर गैलरी’ बनाई जाएगी
सूत्रों ने यह भी बताया कि 15 अगस्त पर इस बार लाल किले पर देश की आजादी से लेकर अब तक का ऐतिहासिक सफर भी दिखाया जाएगा। इसके लिए यहां के मीणा बाजार में ‘पिक्चर गैलरी’ बनाई जाएगी। इसमें सरकार के विकास कार्यों को भी हाईलाइट किया जा सकता है। इसका प्रबंध रक्षा मंत्रालय द्वारा किया जाएगा। 15 अगस्त के बाद यह पिक्चर गैलरी क्या आम लोगों के लिए भी खोली जाएगी या नहीं, फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है लेकिन मीणा बाजार में पिक्चर गैलरी को प्रधानमंत्री और उस दिन वहां उपस्थित होने वाले तमाम वीआईपी इसे देख पाएंगे।
फूलों की होगी शानदार सजावट
इसके अलावा लाल किले की प्राचीर से, जहां से प्रधानमंत्री देश को संबोधित करते हैं, उससे नीचे की किले की दीवार पर इस बार फूलों की शानदार सजावट की जाएगी। इसमें देश को संदेश देने वाला भी कुछ सिंबल उकेरा जा सकता है। इसके अलावा प्राचीर के सामने जहां स्कूली बच्चे बैठा करते थे, वहां एनसीसी कैडेट्स या फिर कोरोना वॉरियर्स को बैठाया जा सकता है।
इस बार होंगे बेहद कम विशिष्ट अतिथि
पिछली बार की तरह इस बार भी लाल किले की प्राचीर पर प्रधानमंत्री के साथ राइट-लेफ्ट में बैठने वाले करीब 800 वीआईपी की जगह बेहद कम वीआईपी होंगे। इस बार इनकी संख्या महज 120 होगी। इनमें 60 लेफ्ट में और 60 राइट में बैठेंगे। लाल किले के अंदर केवल इन्हीं वीआईपी की गाड़ी पार्क होंगी। बाकी अन्य तमाम अधिकारियों और अन्य की गाड़ी बाहर पार्क कराई जाएंगी। सुरक्षा की दृष्टि से जो भी इंतजाम किए जा रहे हैं, उनमें इस बार ड्रोन अटैक की आशंका को खत्म करने वाले इंतजाम अधिक होंगे। इसके लिए डीआरडीओ और अन्य एजेंसियों की मदद से यहां सिस्टम लगाया जाएगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *