धीमे जहर का काम करता है इस तरह का खाना…

प्लेट में अगर भूख से ज्यादा खाना ले लिया जाए तो वह अक्सर बच जाता है। ऐसे में या तो हम अपनी प्लेट को ही फ्रिज में रख देते हैं या फिर उस बचे हुए खाने को दूसरे बर्तन में करके फ्रिज में स्टोर कर देते हैं ताकि भूख लगने पर दोबारा उस खाने को खा सकें।
बचे हुए खाने को फ्रिज में स्टोर कर दोबारा खाने के पीछे हमारा यह लॉजिक भी होता है कि भोजन बर्बाद नहीं करना चाहिए। हम फूड सेफ्टी को बढ़ा रहे हैं जिससे अन्न व्यर्थ ना जाए। यह बात बहुत अच्छी है लेकिन फूड के लिए, हमारी सेहत के लिए नहीं।
ज्यादातर लोगों को नहीं पता यह बात
-फ्रिज में रखे खाने को हम मान लेते हैं कि आज पकाकर रखेंगे तो अगले 2-3 दिन आराम से काम चल जाएगा…शहरों में आमतौर पर यही स्थिति है, खासतौर पर वर्किंग लोगों के साथ लेकिन आपको बता दें कि अगर आप बचा हुआ खाना दोबारा उपयोग करना चाहते हैं तो फ्रिज में रखते समय कुछ खास बातों का ध्यान रखना होगा।
लंबे समय तक खाना फ्रेश रखने के लिए
-आमतौर पर हम अपने फ्रिज में कच्चा और पका हुआ दोनों तरह का फूड साथ रख देते हैं। यानी जिस रो में कच्ची सब्जी रखी है, उसी के बराबर में पकी सब्जी भी रख देते हैं लेकिन ऐसा करना हमारे फ्रिज में बैक्टिरिया के बढ़ने की वजह बन सकता है।
-कच्चे और पके हुए खाने को अलग-अलग रो में और अगल बर्तनों में ढंककर रखना जरूरी होता है ताकि कच्चे फूड के बैक्टीरिया, पके हुए भोजन में जाकर उसे दूषित ना कर सकें। बेहतर होगा कि आप पके हुए भोजन को स्टील के टिफिन्स में बंद करके रखें।
कितने दिन में खत्म करें चावल?
-फ्रिज में रखे पके हुए चावल को हम सबसे अधिक सुरक्षित और लंबा चलने वाला भोजन मानते हैं लेकिन अगर आप चाहते हैं कि चावल आपको पूरा पोषण दें और आपका पाचन भी ठीक रखें तो आपको फ्रिज में रखने के 2 दिन के अंदर ही इन चावलों को खा लेना चाहिए।
-पकाकर ठंडा होने पर चावलों को फ्रिज में रखें और दो दिन के अंदर ही जब भी आप इन चावलों को दोबारा खाने के लिए निकालें तो कुछ देर रूम टेंप्रेचर पर इन्हें रखें। उसके बाद अच्छी तरह गर्म करें। तभी इन्हें खाएं।
कितने दिन संभाल सकते हैं रोटी?
-अगर आप गेहूं की रोटी को फ्रिज में स्टोर कर रहे हैं तो यह लंबे समय तक फ्रेश बनी रह सकती है। आप 1 सप्ताह तक भी फ्रिज से रोटी निकालकर उसे गर्म करके घी या बटर लगाकर उपयोग में ला सकते हैं लेकिन यह रोटी उतनी पौष्टिक नहीं रह जाती है। यहां तक कि कुछ लोगों के लिए पेट दर्द की वजह भी बन सकती है।
कितने घंटे रोटी को स्टोर करना सेफ है?
-जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि रोटी को फ्रिज में स्टोर तो लंबे समय तक किया जा सकता है लेकिन उसे खाना फायदे का सौदा नहीं है। अगर आप गेहूं की रोटी को फ्रिज में रख रहे हैं तो रोटी बनने के 12 से 14 घंटे के अंदर उसे खा लेना बेस्ट होता है क्योंकि इतने घंटे बाद गेहूं की रोटी सबसे अधिक पौष्टिक और स्वादिष्ट लगती है।
क्या है दाल का हाल?
-दाल सबसे अधिक पौष्टिक तभी होती है, जब उसे ताजा-ताजा बनाया जाता है लेकिन अगर खाना खाते समय दाल बच जाए तो आप उसे फ्रिज में रखकर उपयोग कर सकते हैं पर आपको इस दाल का उपयोग 2 दिन के अंदर करना होगा। ऐसा करने से यह पेट में गैस का कारण नहीं बनेगी।
क्या करें कटे हुए फलों का?
ऐसा कई बार होता है जब हमने नाश्ते में खाने के लिए या दोपहर में खाने के लिए फल काटे होते हैं और वे बच जाते हैं। ऐसे में इन बचे हुए फलों को फ्रिज में रखना ही सबसे आसान विकल्प होता है ताकि इनका उपयोग बाद में किया जा सके। लेकिन हर फल को खाने का एक निश्चित समय होता है। उसके बाद यह फल दूषित हो जाता है।
कितने समय में खा लें कौन-सा फल?
-अगर आपने कटा हुआ पपीता फ्रिज में स्टोर किया है तो आपको 6 घंटे के अंदर ही उसका उपयोग कर लेना चाहिए। अन्यथा यह आपकी बीमारी की वजह बन सकता है क्योंकि धातु लगने के 8 घंटे बाद तक पपीता दूषित होना शुरू हो जाता है। इसमें कुछ ऐसे रिऐक्शंस होते हैं कि यदि आप इसे 12 घंटे बाद खाएंगे तो यह कटते वक्त जितना गुणकारी था, इस समय उतना ही हानिकारक हो जाता है। यह आपके शरीर के लिए स्लो पॉइज़न यानी धीमे जहर की तरह काम कर सकता है।
सेब और अन्य फल
-सेब को यदि काटने के बाद ज्यादा देर तक रखा जाए तो उसमें ऑक्सीडाइजेशन होने लगता है। इससे उसकी ऊपरी परत काली होने लगती है। हालांकि इसमें कोई खास नुकसान नहीं है लेकिन सेब को कटने के बाद 4 घंटे के अंदर ही खा लेना बेस्ट होता है।
-वैसे किसी भी फल को अगर आपने काट दिया है तो उसे 6 से 8 घंटे के बाद नहीं खाना चाहिए। फ्रिज में रखी हुई पकाई गई सब्जियां भी, जिन्हें पूरी तरह बर्तन में ढंककर रखा गया हो, उन्हें भी 24 घंटे के अंदर खा लेना चाहिए।
– अगर आप नियमित रूप से खान-पान से जुड़ी इस तरह की गलती करेंगे तो फूड पॉइजनिंग से ग्रसित हो सकते हैं। आपका पाचन तंत्र कमजोर हो सकता है और आपको बार-बार बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *