प्रतीकात्मक हुआ हरिद्वार कुंभ का आखिरी शाही स्नान

हरिद्वार। हरिद्वार कुंभ मेले का आखिरी शाही स्नान मंगलवार को संन्यासी अखाड़ों की ओर से प्रतीकात्मक रूप से किया गया। संन्यासी अखाड़े के कुछ साधु-संत अखाड़े से जहां हरकी पौड़ी ब्रह्मकुंड शाही स्नान करने पहुंचे वहीं बैरागी अखाड़ों और वैष्णो संप्रदाय के तीनों अखाड़ों ने भी भारत सरकार की गाइड लाइन के अनुसार आखिरी शाही स्नान किया और काफी कम संख्या में उनके साधु-संत हरकी पौड़ी ब्रह्मकुंड पहुंचे।
सबसे पहले निरंजनी और आनंद अखाड़े ने शाही स्नान किया। इसके बाद हरकी पौड़ी पर जूना अग्नि आवाहन और किन्नर अखाड़े के साधु-संत पहुंचे। तीसरे नंबर पर महानिर्वाणी अटल अखाड़े ने शाही स्नान किया। इसके बाद तीनों बैरागी अखाड़ों ने हरकी पौड़ी पर पहुंचकर मां गंगा में आस्था की डुबकी लगाई।
आखिरी में वैष्णव संप्रदाय के तीन अखाड़े निर्मल पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन पंचायती और श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन ने हरकी पौड़ी पर कुंभ का आखिरी शाही स्नान किया। साधु-संतों ने कोरोना को देखते हुए मॉस्क भी लगाया और लोगों से अपील भी की।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद संन्यासी अखाड़ों ने प्रतीकात्मक रूप से शाही स्नान किया। निरंजनी अखाड़े के सचिव महंत रवींद्र पुरी का कहना है कि निरंजनी और आनंद अखाड़े ने शाही रूप से स्नान नहीं किया है। हमारे द्वारा सांस्कृतिक स्नान किया गया है। दोनों अखाड़े से हमारे 27 साधु संतों ने ही स्नान किया है। उन्होंने कहा कि हम सब से अपील करते हैं कि कोरोना को देखते हुए सोशल डिस्टेंस का पालन करें और मॉस्क जरूर लगाएं।
अग्नि अखाड़े के श्री महंत साधनानंद ने कहा कि आज कुंभ का अंतिम शाही स्नान है, लेकिन पर्व स्नान बहुत है। आज शाही स्नान में सभी तेरह अखाड़ों ने भाग लिया। भारत सरकार की गाइडलाइन का पालन करते हुए स्नान किया गया। वहीं, किन्नर अखाड़ा की आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण कुंभ की भव्यता में काफी कमी आई है और हम आशा करते हैं, जल्द ही कोरोना खत्म हो जाए।
कुंभ मेला अधिकारी दीपक रावत ने कहा कि आज कुंभ मेले का अंतिम शाही स्नान हो गया है। प्रधानमंत्री ने भी सभी अखाड़ों से अपील की थी कि कोरोना का प्रकोप काफी ज्यादा है, इस कारण कुंभ के शाही स्नान को प्रतीकात्मक रूप से मनाया जाए।
कुंभ मेला आईजी संजय गुंज्याल ने कहा कि आखिरी शाही स्नान पर सभी तेरह अखाड़ों ने स्नान किया। सबसे खास बात रही कि सभी अखाड़ों ने सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया। नोटिफिकेशन के अनुसार 30 अप्रैल को कुंभ समाप्त कर दिया जाएगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *