पुलवामा हमले का असर, Border से वापस किए गोरखपुर आने वाले छुहारे लदे 20 ट्रक

अटारी-वाघा बॉर्डर। पुलवामा आतंकवादी हमले केे असर के बाद पाकिस्तान से गोरखपुर के लिए लाए जा रहे छुहारा लदे 20 ट्रक Border से ही वापस हो गए हैं, वहीं 25 ट्रक Border पार कर ‘200 प्रतिशत’ टैक्स हो जाने से फंस गए हैं।
हालांकि इसका नुकसान गोरखपुर के व्यापारियों को नहीं होगा, लेकिन इसके वहीं सड़ जाने की भी आशंका है। गोरखपुर के बाजार में हरेक दिन करीब 250 क्विंटल पाकिस्तानी छुहारे की खपत है।

पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले के पहले गोरखपुर के व्यापारियों ने करीब 20 ट्रक माल बुक कराए थे। इसके बाद सरकार ने पाकिस्तान ने आने वाले माल पर 200 प्रतिशत टैक्स लगा दिया।

ऐसे में एक ट्रक छुहारे की कीमत जहां करीब 15 लाख रुपये के आसपास होती थी, वह बढ़कर 32 लाख रुपये हो गई है। गोरखपुर किराना कमेटी के अध्यक्ष उमेश मद्धेशिया ने बताया कि ऐसे में व्यापारियों ने वहां से छुहारे के सारे ऑर्डर रद्द कर दिए। इसके बाद 32 ट्रक छुहारे पाकिस्तानी बॉर्डर से वापस हो गए।

बॉर्डर पर फंसे 25 ट्रक छुहारा
गोरखपुर किराना कमेटी के महामंत्री गोपाल कुमार जायसवाल ने बताया कि व्यापारियों की ओर से बुक कराए 25 ट्रक छुहारा अटारी बॉर्डर पार हो चुका है। लेकिन पुलवामा हमले बढ़े टैक्स से कस्टम क्लियरेंस में सारा माल फंस गया है।

करीब 500 टन के माल पर सिर्फ कस्टम ड्यूटी करीब 45 लाख रुपये बनती है। पहले इसके लिए कुछ नहीं देना पड़ता था। ऐसे में व्यापारियों में इसको लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। अब यह माल वापस पाकिस्तान जा नहीं सकता। यदि टैक्स नहीं चुकाया तो कस्टम गोदाम में ही यह माल पड़ा रह जाएगा।

छुहारे की कीमत में आ गई तेजी
थोक बाजार में छुहारा 5500 से 8500 रुपये प्रति क्विंटल की दर से बिकता था। पाकिस्तान से आने वाले माल पर 200 प्रतिशत टैक्स लगने की वजह से बॉर्डर पर माल अटक गया है। ऐसे में छुहारे की कीमत डेढ़ गुनी तक बढ़ गई है। खुदरा बाजार में छुहारे की कीमत 250 रुपये किलो से ज्यादा हो गई है।

चिलगोजा और सेंधा नमक पर भी गहराएगा संकट
पाकिस्तान से छुहारा के अलावा अजवाइन, सेंधा नमक, रतनजोत भी आयात होता है। कस्टम ड्यूटी बढ़ने के बाद इन सामानों पर भी संकट गहराने की आशंका है। हालांकि अजवाइन की उतनी दिक्कत नहीं होगी, क्योंकि इसकी उपज भारत में भी होती है लेकिन सेंधा नमक को लेकर थोड़ी दिक्कत बढ़ेगी।
-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *