दिखाई देने लगा ‘अम्फान’ का असर, तटीय इलाकों में तेज हवा और बारिश

नई दिल्‍ली। बंगाल की खाड़ी में बने ताकतवर चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। मंगलवार रात से ओडिशा के तटीय इलाकों में इसका प्रभाव शुरू हो गया है। तटीय इलाकों में तेज हवाएं चल रही हैं। बालासोर, भद्रक जैसे जिलों से पेड़ गिरने की सूचना आई है। भद्रक और पारादीप में भारी बारिश हो रही है। नदी किनारे से 10 हजार लोगों को हटाया गया है। कच्चे मकाने में रहने वाले लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया है। मछुवारों को समुद्र से दूर रहने को कहा गया है। पूरे ओडिशा में करीब एक लाख लोगों को खतरे वाली जगहों से निकाला गया है।
भारतीय मौसम विभाग (IMD) का कहना है कि यह चक्रवात सुबह 10.30 बजे पारादीप से करीब 120 किलोमीटर दूर था। इसके पश्चिम बंगाल-बांग्‍लादेश के तटों से होकर पास होने का अनुमान है। इस साइक्‍लोन का लैंडफॉल प्रोसेस आज दोपहर से शुरू होगा।
बंद हो गए हैं रास्‍ते
पारादीप की यह तस्‍वीर इस साइक्‍लोन का शुरुआती असर दिखा रही है। यहां पेड़ गिरने से कई रास्‍ते पूरी तरह बंद हो गए हैं। उन्‍हें रोड से हटाने के लिए क्रेन की मदद ली जा रही है।
ओडिशा में तेज हवाएं, ऊंची लहरें
ओडिशा के तटीय इलाकों को इस साइक्‍लोन से सबसे ज्‍यादा खतरा है। वहां मंगलवार से ही समुद्र में ऊंची-ऊंची लहरें उठ रही हैं। तटीय जिलों में 155 से 165 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चलने की संभावना जताई गई है। हवा की अधिकतम रफ्तार 185 किमी प्रति घंटे भी हो सकती है।
फिलहाल इस तूफान का असर ओडिशा पर है। यहां तूफान और बारिश के बीच, भद्रक में एक पेड़ गिर जाने से रोक ब्‍लॉक हो गई है। चक्रवात ओडिशा के तटीय जिलों जगतसिंहपुर, केंद्रापाड़ा, भद्रक, जाजपुर और बालासोर में भारी वर्षा और तूफान लेकर आएगा।
खतरे में हैं चार राज्‍य
चक्रवात अम्फान पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हटिया द्वीप के बीच कहीं पर दस्तक दे सकता है। ओडिशा, पश्चिम बंगाल के अलावा गुरुवार तक सिक्किम और मेघालय के लिए भी चेतावनी जारी की गई है।
बंगाल में यहां ज्‍यादा दिखेगा असर
पूर्वी मिदनापुर के तीन तटीय जिले, दक्षिण 24-परगना और उत्तर 24-परगना जिले के ‘अम्‍फान’ से सबसे अधिक प्रभावित होने की आशंका है। इन तीन जिलों के अलावा चक्रवात अम्फान से अन्य दक्षिण बंगाल के जिलों हावड़ा, हुगली, पश्चिम मिदनापुर और कोलकाता के भी प्रभावित होने की संभावना है।
NDRF की टीमें दोनों राज्‍यों में तैनात
राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की कुल 19 टीमें पश्चिम बंगाल में सहायता देने के लिए तैनात हैं। वहां चार टीमें स्टैंडबाय पर हैं। ओडिशा में, 13 टीमें तैनात हैं और 17 स्टैंडबाय पर हैं। NDRF की कुछ और टीमें भी पहुंच रही हैं।
-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *