सिपाही ने कलेक्ट्रेट में नहीं घुसने दी जज साहब की गाड़ी, पैदल पहुंचे जज साहब

सिवान। सिवान में शायद यह पहला मौका रहा होगा जब एक जज का रास्ता सिपाही ने रोक दिया हो। सुनने में थोड़ा असहज लग सकता है पर यही हकीकत है। मामला कलेक्ट्रेट गेट का है। दरअसल, सुबह के वक्त परिवार न्यायालय के प्रिंसिपल जज ज्योति स्वरूप श्रीवास्तव अपने आवास से न्यायालय जा रहे थे। उनका ड्राइवर गाड़ी को कलेक्ट्रेट के दक्षिणी गेट से प्रवेश कर न्यायालय जाना चाहता था क्योंकि अब से पहले यही रास्ता उपयोग में रहता था लेकिन शायद ही किसी को इस बात का अंदाजा रहा होगा कि कल तक गेट पर तैनात सिपाही जो जज की गाड़ी गुजरने पर सैल्यूट मारता था, उसी सिपाही ने आज जज साहब की गाड़ी को कलेक्ट्रेट में प्रवेश करने से रोक दिया।
जज के साथ मौजूद सुरक्षा सुरक्षा कर्मी ने भी सिपाही से जज साहब का परिचय देते हुए अंदर जाने देने को कहा लेकिन सिपाही इसके लिए तैयार नहीं हुआ। सिपाही ने जज साहब के सुरक्षा कर्मी को जेपी चौक के रास्ते कोर्ट जाने को कहा। इसके बाद जज साहब वहीं अपनी गाड़ी से उतर कर पैदल ही न्यायालय में चले गए जबकि उनकी गाड़ी जेपी चौक के रास्ते पीछे से कोर्ट पहुंचे।
डीएम के आदेश पर बंद हुआ है कलेक्ट्रेट का गेट
कलेक्ट्रेट का दक्षिणी गेट डीएम अमित कुमार पांडेय के निर्देश पर बंद किया गया है। सिपाही के लिए धर्मसंकट की स्थिति थी। अगर वह जज के लिए गेट खोलता तो डीएम के आदेश का उल्लंघन होता इसलिए सिपाही अपने कर्तव्य पर अडिग रहा। बता दें कि न्यायालय के बीच में कलेक्ट्रेट है। व्यवहार न्यायालय से कचहरी में जाने के लिए कलेक्ट्रेट का रास्ता अब तक उपयोग किया जाता था लेकिन डीएम ने कलेक्ट्रेट का एक गेट बंद करा दिया। अब व्यवहार न्यायालय से परिवार न्यायालय में जाने के लिए जेपी चौक होकर जाना पड़ेगा। जबकि जेपी चौक पर पहले से ही हमेशा जाम की स्थिति रहती है।
अधिवक्ता संघ ने घटना की कड़ी निंदा की
जिला अधिवक्ता संघ ने इस घटना की निंदा की है। इसके लिए वकीलों की आपात बैठक बुलाई गई। इस अवसर पर संघ अध्यक्ष पांडे रामेश्वरी प्रसाद, सचिव प्रेम कुमार सिंह, राजीव रंजन राजू, उपसचिव गणेश राम, अजय कुमार सिन्हा, कल्पनाथ सिंह, प्रकाश सिंह, राज कुमारी रीना, मो कलीमुल्लाह, जितेंद्र कुमार सिंह, सुनील कुमार सिंह मौजूद रहे। इसमें कलेक्ट्रेट का दक्षिणी गेट वकील और जज के लिए खोलने की मांग हुई।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *