थल सेना प्रमुख ने कहा, भारत-चीन सीमा पर स्थितियां पूरी तरह से नियंत्रण में

देहरादून। भारत और चीन के बीच लद्दाख में जारी गतिरोध का मामला सुलझने की ओर बढ़ रहा है। भारतीय थल सेना के प्रमुख एमएम नरवणे ने शनिवार को बताया कि चीन के साथ भारत बातचीत के जरिए मतभेद सुलझाने में लगा हुआ है। दोनों देशों की सीमा पर स्थितियां पूरी तरह से नियंत्रण में हैं। वहीं नेपाल के साथ शुरू हुए सीमा विवाद पर बोलते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि दोनों देशों के बीच मजबूत भौगोलिक सांस्कृतिक और धार्मिक संबंध हैं, जो आगे भी जारी रहेंगे।
भारत-चीन सीमा पर स्थिति नियंत्रण में
गौरतलब है कि बीते दिनों लद्दाख में भारत-चीन की सीमा पर चीनी सैनिकों के आक्रामक रुख अपनाने से माहौल तनावपूर्ण बना हुआ था। मामले को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर भी निशाना साधा जा रहा था। चीन के साथ विवाद को लेकर देश भर में चिंता का माहौल था। ऐसे में शनिवार को थलसेना प्रमुख ने स्थिति के नियंत्रण में होने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा, ‘मैं सभी को आश्वस्त कर देना चाहता हूं कि चीन के साथ लगी हमारी सीमाओं पर स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। हम चीन से कमांडर लेवल की लगातार बातचीत कर रहे हैं।’
नरवणे ने कहा कि इसके अलावा स्थानीय स्तर पर भी समान रैंक के कमांडर्स के बीच बातचीत के जरिए गतिरोध को सुलझाने की कोशिश की जा रही है। नरवणे शनिवार को देहरादून में आईएमए के पासिंग आउट परेड में हिस्सा लेने उत्तराखंड पहुंचे थे।
‘बातचीत से दूर होंगे मतभेद’
सेना प्रमुख ने कहा कि बातचीत के जरिए गतिरोध को काफी कम किया जा चुका है। हमें उम्मीद है कि दोनों देशों के बीच चल रही लगातार बातचीत के जरिए सारे मतभेद दूर होंगे। उन्होंने दावा किया कि सबकुछ नियंत्रण में है। वहीं नेपाल के साथ सीमा पर बढ़ी तल्खी को लेकर भी सेना प्रमुख ने अपनी बात रखी। उन्होंने दोनों देशों के बीच मजबूत सांस्कृतिक संबंधों का हवाला देते हुए कहा कि भारत और नेपाल के बीच रिश्ते हमेशा मजबूत रहेंगे।
नेपाल पर बोले सेना प्रमुख
नरवणे ने कहा, ‘नेपाल के साथ हमारे संबंध बहुत मजबूत हैं। हम भौगोलिक, सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और धार्मिक कड़ी से एक-दूसरे से बंधे हैं। हम लोगों के लोगों से मजबूत संबंधों के द्वारा जुड़े हैं। ऐसे में हमारा उनके साथ (नेपाल के साथ) संबंध हमेशा मजबूत रहा है और आगे भी मजबूत रहेगा।’
गौरतलब है कि लिपुलेख, कालापानी को नेपाली नक्शे में दिखाए जाने को लेकर दोनों देशों के बीच संबंधों में तनाव पैदा हो गए थे।
इसके अलावा हाल ही में भारत नेपाल सीमा पर पुलिस फायरिंग में शख्स की मौत को लेकर भी दोनों देशों के बीच संबंधों के तल्ख हो जाने को लेकर चर्चा तेज हो गई थी। कहा जा रहा है कि चीन की शह पर नेपाल भारत के खिलाफ लगातार आक्रामक रुख अपनाए हुए है।
‘कश्मीर में मिल रही कामयाबी’
सेना प्रमुख ने जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान को लेकर भी अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि जहां तक जम्मू-कश्मीर और पश्चिमी पड़ोसी (पाकिस्तान) का संबंध है, हमने बहुत सी सफलताएं हासिल की हैं। उन्होंने कहा कि बीते 10-15 दिनों में 15 से ज्यादा आतंकवादी मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि यह कामयाबी प्रदेश में काम करने वाले सभी सुरक्षाबलों के बीच घनिष्ठ सहयोग से हासिल की जा सकी है।
सेना प्रमुख ने कहा कि कश्मीर में ज्यादातर ऑपरेशन्स स्थानीय लोगों द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर संचालित किए गए हैं। इससे साफ होता है कि प्रदेश के लोग उग्रवाद और आतंकवाद से पूरी तरह से तंग आ चुके हैं और वे चाहते हैं कि घाटी में स्थिति सामान्य हो जाए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *