कपड़ा व्यवसायी ने अपने गांव के Senior Citizens को दिया अनोखा उपहार

कोयम्बटूर। तमिलनाडु के एक व्यवसायी ने अपने गांव के Senior Citizens को अनोखा उपहार दिया है। उन्होंने गांव के उन 120 Senior Citizens को हवाई जहाज से यात्रा कराई जो कभी एयरपोर्ट पर कदम रखने तक की नहीं सोच सकते थे। ऐसे लोग हवाई जहाज में बैठकर सफर पर निकले तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं था।
तमिलनाडु के कोयम्बटूर जिले के एक छोटे से गांव देवरायमपलयम के रहने वाले एक सफल कपड़ा व्यवसायी एम. रविकुमार पांच साल पहले हवाई जहाज में बैठे थे।
एयरपोर्ट पहुंचे से लेकर हवाई जहाज में चढ़ने, उड़ान भरने से लेकर हवाई जहाज से उतरने तक का अनुभव उनके लिए बहुत अनोखा था। उसी दिन रविकुमार ने फैसला लिया कि अपने साथ वे अन्य ऐसे Senior Citizens को यह अनुभव देंगे, जो अपनी जिंदगी में कभी हवाई जहाज में नहीं बैठे।
रविकुमार ने अपने गांव देवरायमपलयम के 120 लोगों को एयर इंडिया की फ्लाइट में बैठाया। इन लोगों ने कोयम्बटूर से लेकर चेन्नै तक का सफर किया। एयरपोर्ट में दो बसों में भरकर ये लोग पहुंचे तो उनका वहां स्वागत किया गया। यहां किसी त्योहार जैसा माहौल था।
‘प्लेन में बैठने के बारे में सोच भी नहीं सकती थी’
रविकुमार ने बताया, ‘इस ग्रुप में मेरे परिवार की छह पीढ़ियां थीं। मैंने 50 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों को इस यात्रा के लिए चुना। ग्रुप में हमारे परिवार की 101 वर्षीय दादी भी शामिल थीं।’ ग्रुप में आईं वल्लिम्मल ने बताया कि वे लोग इस यात्रा के लिए एक हफ्ते से ऐसे तैयारी कर रहे थे, जैसे किसी बड़े त्योहार में करते हैं। रवि ने हम लोगों को तीन महीने पहले इस यात्रा के बारे में बता दिया था। हालांकि हमें विश्वास नहीं हो रहा था।
रविकुमार के इस ग्रुप में सिर्फ उनके परिवार और के लोग नहीं बल्कि उनके पड़ोसी भी शामिल थे। 50 साल की जामिला ने कहा, ‘मेरा इस दुनिया में कोई नहीं है। न पति हैं, न बच्चे। मैं हवाई जहाज में बैठने के बारे में कभी सोच भी नहीं सकती थी। एयरपोर्ट आने से पहले मुझे अजीब सा डर लग रहा था, लेकिन अब वह बहुत ज्यादा उत्सुक हैं।’
‘यकीन नहीं हो रहा, हवाई जहाज में सफर किया’
50 साल की सिवगामी ने कहा कि वह एक किसान हैं। वह कभी सपने में भी नहीं सोच सकती थीं कि कभी एयरपोर्ट पर कदम रखेंगी, ऐसे में हवाई जहाज का सफर तो बहुत दूर की बात है। उन्हें तो अब भी यकीन नहीं हो रहा कि उन्होंने हवाई जहाज में सफर किया है।
रविकुमार ने बताया कि इस ट्रिप में उनके चार लाख रुपये खर्च हुए हैं। उन्होंने कहा कि बुजुर्गों को हवाई जहाज से सफर कराने के बारे में उन्होंने पांच साल पहले सोचा था लेकिन यह पूरा नहीं हो पा रहा था क्योंकि यह ग्रुप बहुत बड़ा था और टिकटों की कीमतें ज्यादा थीं। ऐसे में उनके एक मिलने वालों ने उन्हें 20 टिकट में छूट की बात कही, जिसके बाद उनकी यह ट्रिप पूरी हो सकी।
रवि ने बताया कि इस ट्रिप में लोग हवाई जहाज से कांचीपुरम, वेल्लोर और तिरुमलई जाएंगे। तिरुमलई से रविवार की शाम को सभी को बस से गांव लाया जाएगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *