तुलसी माला व तिलक लगाकर विधानसभा सत्र में भाग लिया Tej Pratap ने

पटना। Tej Pratap यादव आज शुक्रवार को अचानक धोती-कुर्ता पहने तुलसी माला व तिलक लगाकर बिहार विधानसभा के शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन की कार्यवाही में भाग लेने पहुंच गए, इससे जहां लोगों में उन्‍हें लेकर कौतूहल बना रहा वहीं इस दौरान Tej Pratap के चेहरे पर गहरी उदासी दिखी।

इससे पहले कल गरुवार को तेजप्रताप तलाक मामले में पटना के सिविल कोर्ट पहुंचे 

गुरुवार को Tej Pratap करीब पौने तीन बजे अपनी गाड़ी से दोस्तों के साथ सिविल कोर्ट परिसर पहुंचे। इनके आते ही कोर्ट परिसर में हलचल तेज हो गई। मीडियाकर्मियों ने उनसे बात करनी चाही पर वे सीधे कोर्ट परिसर में चले गए। वृंदावन में धोती पहने और माथे पर चंदन लगाए रहने वाले पूर्व स्वास्थ्य मंत्री गुरुवार को सफेद शर्ट पर पीली बंडी पहने दिखे। गले में तुलसी की माला और माथे पर तिलक लगाए हुए और दाढ़ी की बजाए क्लीन सेव। हालांकि उनके चेहरे पर थकावट साफ झलक रही थी। चेहरे से मुस्कुराहट गायब थी।

बुधवार रात बदले कई ठिकाने
सूत्रों के अनुसार तेजप्रताप बुधवार रात ही पटना पहुंच गए। यहां आने के बाद वे अपने आवास या परिचित के घर जाने की बजाए होटल में रुके। मगर मीडिया के पहुंचने के डर से अपना ठिकाना बदलते रहे।

चार को ही मिला प्रवेश
कोर्ट में करीब 15 मिनट के लिए ही सुनवाई हुई। इस दौरान कुछ समर्थक और वकील भी कोर्ट रूम में अंदर प्रवेश करना चाह रहे थे, लेकिन सिर्फ चार लोगों को ही कोर्ट में प्रवेश मिला। ऐश्वर्या की तरफ से पक्ष रखने के लिए कोर्ट में राजनीति प्रसाद और योगेन्द्र प्रसाद यादव प्रवेश करना चाहा पर सुनवाई के समय वे भी बाहर दिखे।

ज्यादा बोलने से बचते रहे तेजप्रताप
आमतौर पर अपनी बात बेबाकी से रखने वाले तेजप्रताप गुरुवार को मीडिया के सवालों से बचते नजर आए। कोर्ट में कुछ देर की सुनवाई के बाद तेजप्रताप बाहर निकले। इनके दोनों अधिवक्ता साथ थे। वकीलों ने पहले ही तेजप्रताप को समझा दिया था कि मीडिया के सामने कुछ नहीं बोलना है। सुनवाई के बाद समर्थकों ने तेजप्रताप को सबसे बचाना चाहा पर जैसे ही गेट के पास आए मीडियाकर्मियों ने उन्हें घेरकर सवाल दागना शुरू कर दिया। इस पर तेजप्रताप ने सिर्फ इतना कहा कि हम अपने फैसले पर अडिग हैं। किसी भी हालत में फैसला नहीं बदलेंगे। इतना बोलने के बाद वे आगे बढ़े पर मीडिया ने उन्हें दोबारा घेर लिया। सवाल पूछने के लिए कुछ देर के लिए धक्का-मुक्की भी हुई, लेकिन दोस्तों ने उन्हें गाड़ी में बैठाया और लेकर कहीं चले गए।

-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *