संस्कृति आयुर्वेद कालेज की टीम ने ज्ञानदीप में किया ‘आयु संवाद’

मथुरा। संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज एवं अस्पताल के चिकित्सकों द्वारा समाज के प्रति जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए ‘आयु संवाद’ के बैनर तले ज्ञानदीप इंटर कालेज में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर लगाया। संस्कृति आयुर्वेद कालेज के चिकित्सकों ने शिविर में शिक्षकों को आयुर्वेद के महत्व और कोविड-19 से बचाव के उपाय बताए।

संस्कृति आयुर्वेद अस्पताल की डाक्टर ए.सुजीत ने शिक्षकों को बताया कि कोरोना क्या है और किस तरह से हमारे शरीर में फैलता है। उन्होंने बताया कि इस महामारी से बचने का सर्वश्रेष्ठ तरीका इससे बचाव ही है, इसलिए मास्क पहनना, दूरी बनाकर रखना बहुत आवश्यक है। डा. सुजीत ने कोरोना के संक्रमण के विभिन्न चरणों की जानकारी देते हुए बताया कि अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि कोविड-19 वाइरस कहां से आया लेकिन अब हम सब यह जानते हैं कि इसका प्रसार कैसे हो रहा है। बचाव के लिए आयुर्वेदिक जड़ीबूटियों के असरकारी प्रभाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आज सारा विश्व आयुर्वेद के महत्व को स्वीकार कर चुका है।

शिविर में संस्कृति आयुर्वेद कालेज की चिकित्सक डा. रुचिका पनवार ने शिक्षिकों को आयुष क्वाथ (काढ़ा) बनाने की विधि बताते हुए कहा कि चार भाग तुलसी, दो भाग कालीमिर्च, दो भाग सौंठ, दो भाग दालचीनी को साथ में कूटकर यह घर में ही तैयार किया जा सकता है। इसका दिन में दो बार गर्म पानी से सेवन किया जाना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने नस्य, गरारे की विधि बताते हुए कहा कि इस तरह से हम अपने नाक गले को स्वस्थ रख सकते हैं। उन्होंने इससे पूर्व आयुर्वेद का मतलब समझाते हुए कहा कि आयु का अर्थ है जीवन और वेद का मतलब होता है ज्ञान।

आयुर्वेद हमको स्वस्थ्य रहने का तरीका बताता है। जब हम स्वस्थ रहते हैं तो बीमारियों से प्रभावित नहीं होते। उन्होंने आयुर्वेद की अनेक औषधियों के लाभ और उनके प्रयोग के तरीके बताए। शिविर में शिक्षकों ने चिकित्सकों से अनेक सवाल किए, जिनका चिकित्सकों ने संतुष्टिपूर्ण उत्तर दिया। संस्कृति आयुर्वेद कालेज और अस्पताल द्वारा इस मौके पर सबको मास्क भी वितरित किए गए। शिविर में ज्ञानदीप की प्रधानाचार्य श्रीमती रजनी नौटियाल ने संस्कृति आयुर्वेद कालेज एवं अस्पताल के चिकित्सकों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि ऐसे उपयोगी शिविर वर्तमान हालातों का सामना करने में महत्पपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। शिविर में ज्ञानदीप कालेज की एकेडमिक डाइरेक्टर प्रीति भाटिया, एडमिनिस्ट्रेटर आशीष भाटिया संदीप कुलश्रेष्ठ, जितेंद्र कुमार, रोहित अग्रवाल, आदि उपस्थित रहे। शिविर के आयोजन में संस्कृति विवि के विजय सक्सेना, राजेश, यशपाल, प्रवीन शर्मा आदि का सहयोग भी उल्लेखनीय रहा।

विवि की विशेष कार्याधिकारी श्रीमती मीनाक्षी शर्मा ने अपने संदेश में कहा कि जनजागरूकता अभियान में शिक्षक बड़ी भूमिका निबाह सकते हैं। कोराना की इस गंभीर चुनौती का हमें डटकर सामना करना है। हमें विश्वास है कि एक बार फिर हम यह लड़ाई जीतने में कामयाब होंगे।

  • Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *