सीरीज के दूसरे टेस्ट मैच में भी आसान नहीं है टीम इंडिया की राह

नई दिल्‍ली। भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड दौरे की शुरुआत टी-20 इंटरनेशनल सीरीज में एकतरफ 5-0 से जीत के साथ की थी लेकिन वनडे सीरीज में वह औंधे मुंह गिरी और एक भी मैच नहीं जीत सकी। टेस्ट सीरीज के पहले मैच में वह बड़ी मुश्किल से पारी की हार से बच सकी।
टीम इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट सीरीज का दूसरा और आखिर मैच क्राइस्टचर्च के हेगले ओवल स्टेडियम में खेला जाएगा। यह मैच 29 फरवरी से 4 मार्च तक होना है। भारतीय समयानुसार यह मैच सुबह 4 बजे से शुरू होगा। विराट कोहली की कप्तानी टीम की पूरी कोशिश यहां जीतकर दौरे का सुखद अंत करने की होगी, लेकिन कई ऐसी बातें हैं जो उसके इस सपने के आड़े आ रही हैं।
यहां खेलने का अनुभव नहीं
भारतीय टीम इस क्राइस्टचर्च के हेगले ओवल स्टेडियम में पहली बार कोई मैच खेलने उतरेगी। 1851 में बने इस स्टेडियम में अब तक भारत ने किसी भी फॉर्मेट में कोई मैच नहीं खेला है। एक लाइन में कहा जाए तो किसी भी भारतीय के पास यहां खेलने का अनुभव नहीं है। कप्तान, कोच और खिलाड़ी पिच और उसके मिजाज का सिर्फ एक्सपर्ट कमेंट के आधार पर अंदाजा लगा सकते हैं।
दूसरी ओर यह मैदान कीवी खिलाड़ियों का अपना है तो वह सभी बातों को पूरी तरह जानते हैं।
फॉर्म से जूझ रहे बल्लेबाज
दौरे पर भारतीय कप्तान विराट कोहली कुछ खास नहीं कर पाए हैं। उनके अलावा अजिंक्य रहाणे, चेतेश्वर पुजारा, हनुमा विहारी, मयंक अग्रवाल, पृथ्वी साव और ऋषभ पंत पहले टेस्ट में पूरी तरह फ्लॉप रहे थे। इस तरह टीम इंडिया का सबसे बड़ा हथियार ही कमजोर कड़ी साबित हुआ है।
नहीं दिखी बुमराह में धार
चोट से वापसी करने वाले जसप्रीत बुमराह अभी तक लय में नहीं नजर आए हैं। दौरे पर उन्होंने 5 टी-20, 3 वनडे और 1 टेस्ट खेलते हुए महज 7 विकेट लेने में सफलता पाई है। वनडे सीरीज में तो उनका खाता भी नहीं खुला था। अगर भारत को जीत की राह पर लौटना है तो बुमराह को फॉर्म पाना होगा।
डिफेंसिव कप्तानी जा रही खिलाफ
पहले टेस्ट में हार के बाद सबसे अधिक आलोचना कप्तान विराट कोहली की हो रही है। पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने कहा था कि विराट कोहली अधिक डिफेंसिव होकर कप्तानी कर रहे हैं, जबकि यहां आक्रामकता की जरूरत है। नई गेंदों से तेज गेंदबाजों को मौका मिलना चाहिए लेकिन उन्होंने स्पिनर (आर. अश्विन) को मौके दिए। रक्षात्मक शैली कोहली की बैटिंग में भी देखने को मिली।
हेगले ओवल में न्यूजीलैंड का घातक रेकॉर्ड
भारत के खिलाफ जाने वाली सबसे अहम बात यह है कि यहां मेजबान ने 6 टेस्ट खेले हैं और 4 में जीत हासिल की है। महज एक मैच में उसे ऑस्ट्रेलिया से हार मिली है जबकि इंग्लैंड के खिलाफ एक मैच में उसने ड्रॉ खेला है। यहां खेले गए आखिरी मैच (बांग्लादेश के खिलाफ कैंसिल मैच को छोड़कर) में तो उसने श्रीलंका को 423 रनों के बड़े अंतर से हराया था। ऐसे में भारतीय टीम को सजग खोकर खेलने की जरूरत होगी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *