न्यूजीलैंड के खिलाफ कल से टेस्‍ट सीरीज खेलेगी टीम इंडिया

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में भारतीय टीम का प्रदर्शन अच्छा रहा। टीम ने फाइनल तक का सफर तय किया। फाइनल में टीम इंडिया को भले ही हार का सामना करना पड़ा हो लेकिन बीते दो-तीन साल में भारतीय टीम ने कुल मिलाकर दमदार खेल दिखाया है। इस दौरान भारतीय टीम ने जो कमाल की जीत हासिल की हैं उसमें गेंदबाजों ने अहम किरदार निभाया है। इसके साथ ही गेंदबाजों ने बल्लेबाजों के कमजोर प्रदर्शन को छुपाया भी है। जबकि कई मौकों पर अलग-अलग परिस्थितियों में बल्लेबाज प्रभाव छोड़ने में असफल रहे हैं।
बॉलर हैं दमदार, बल्लेबाजों को दिखानी होगी धार
भारतीय क्रिकेट में बल्लेबाजी एक कमजोर कड़ी नजर आती है। यह बात सच है कि भारत ने एक मजबूत गेंदबाजी आक्रमण तैयार कर लिया है लेकिन साथ ही एक दूसरी समस्या ने टीम को घेर रखा है। टीम को अब टेस्ट बल्लेबाजी में अच्छे विकल्प तलाशने पड़ रहे हैं।
गुरुवार से शुरू है टेस्ट सीरीज
न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम गुरुवार 25 नवंबर से दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेगी। इस सीरीज के जरिए भारतीय टीम के पास अपने विकल्पों को तलाशने और परखने का मौका होगा। यह सीरीज मिडल-ऑर्डर में तब्दीली की शुरुआत हो सकती है।
बड़े खिलाड़ी बाहर
नियमित टेस्ट कप्तान विराट कोहली पहला टेस्ट मैच नहीं खेलेंगे। रोहित शर्मा ने आराम करने का फैसला किया और केएल राहुल चोट की वजह से बाहर हो गए हैं। उनकी बाईं जांघ में मांसपेशी में चोट है। टेस्ट विशेषज्ञ कहे जाने वाले हनुमा विहारी इंडिया ‘ए’ के साथ साउथ अफ्रीका के दौरे पर हैं। भारत को अगले महीने से वहां का दौरा करना है। भारत ए के इस दौरे को ट्रायल कहा जा सकता है।
रहाणे-पुजारा पर दारोमदार
अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा जो पहले टेस्ट मैच में कप्तान और उपकप्तान हैं, दोनों खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं। दोनों की उम्र 34 साल हो गई है। बेशक, उनका अनुभव बेशकीमती है लेकिन एक विशेषज्ञ विकल्प तैयार करने के लिए ज्यादा वक्त नहीं है। याद कीजिए जब वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ ने छोड़ा था तब भारतीय टीम को कितने मुश्किल वक्त से गुजरना पड़ा था।
सभी विकल्प आजमाना चाहते हैं द्रविड़
केएल राहुल के स्थान पर सूर्यकुमार यादव को टेस्ट टीम में शामिल किया जाना यह दिखाता है कि मुख्य कोच राहुल द्रविड़ सभी उपलब्ध विकल्पों को आजमा लेना चाहते हैं। द्रविड़ के साथ ही श्रेयस अय्यर और शुभमन गिल को भी काफी गंभीरता से देखेंगे।
गिल करेंगे ओपनिंग!
राहुल की चोट के बाद यह तो साफ हो गया है कि गिल अब पारी की शुरुआत करेंगे। अभी तक का पूरा अंतर्राष्ट्रीय करियर बतौर सलामी बल्लेबाज का रहा है। जुलाई में इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज से चोट के चलते बाहर होने वाले गिल को पहले मध्यक्रम में आजमाए जाने की बात चल रही थी। लेकिन अब वह ओपनर के रूप में ही नजर आएंगे। लेकिन सूत्रों की मानें तो उन्हें भविष्य में एक मध्यक्रम के बल्लेबाज के विकल्प के तौर पर भी देखा जा रहा है।
क्या कहते हैं पुजारा
चेतेश्वर पुजारा ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, ‘मैं फिलहाल गिल की बल्लेबाजी पोजीशन के बारे में खुलासा नहीं कर सकता। वह एक प्रतिभाशाली बल्लेबाज हैं। उस जैसे खिलाड़ी को ज्यादा फिक्रमंद होने की जरूरत नहीं है। बीते दो साल में उन्होंने बहुत अच्छा क्रिकेट खेला है। उन्हें सिर्फ अपना नैसर्गिक खेल दिखाना होगा। लेकिन मैं यह नहीं बता सकता कि वह कहां बल्लेबाजी करेंगे।’
काउंटर-अटैकिंग है निगाहों में
खबर के मुताबिक विहारी के स्थान पर अय्यर को टीम में चुनने के पीछे एक वजह यह थी कि प्रबंधन रोहित, विराट और ऋषभ पंत की अनुपस्थिति में मिडल ऑर्डर में एक आक्रामक खिलाड़ी चाहता था। इसके पीछे सोच यही है कि ऐसे खिलाड़ियों को मौका दिया जाए जिनमें काउंटर अटैक करने की क्षमता हो। पुजारा, रहाणे, विहारी और ऋद्धिमान साहा, सभी एक ही तरह के बल्लेबाज हैं और ऐसे में एक आक्रामक बल्लेबाज की गुंजाइश बनी हुई है।
वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल और टी20 वर्ल्ड कप में मिली निराशा के बाद राहुल द्रविड़ का पहला काम माहौल को स्थिर करना है। पुजारा और रहाणे को इस शांत माहौल से फायदा ही होगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *