एयर इंडिया को खरीदने की कोशिश में जुटा हुआ है टाटा ग्रुप

करीब 100 अरब डॉलर के टाटा ग्रुप ने देश की संकटग्रस्त करियर एयर इंडिया को खरीदने की कोशिश में जुट गई है। नमक से लेकर सॉफ्टवेयर तक हर तरह के प्रोडक्ट बनाने वाले टाटा ग्रुप ने महाराजा के नाम से जाने जाने वाले एयर इंडिया के अधिग्रहण के लिए अपने बेहतरीन लोगों को काम पर लगाया है।
टाटा ग्रुप ने सरकारी कंपनी एयर इंडिया को खरीदने की प्रक्रिया में अपने एक दर्जन बेहतरीन स्टाफ को लगाया है। साल 2021 में टाटा ग्रुप यह सुनिश्चित करना चाहता है कि उसके हिसाब से इस बार Air India डील में कोई अड़चन नहीं आए।
हिस्सा खरीदने में टाटा की रुचि नहीं
साल 2018 में भी भारत सरकार ने एयर इंडिया में हिस्सा बेचने के लिए निविदा मंगाई थी लेकिन उस वक्त किसी ने एयर इंडिया को खरीदने में दिलचस्पी नहीं दिखाई। पिछले साल सरकार ने एयर इंडिया को पूरी तरह बेचने के लिए प्रस्ताव किया था। इसके बाद एयर इंडिया को खरीदने में टाटा ग्रुप की दिलचस्पी जगी। टाटा संस के एन चंद्रशेखरन और ग्रुप सीईओ सौरभ अग्रवाल ने नेतृत्व में एयर इंडिया की वैल्यू लगाने से लेकर खरीदारी के अन्य पहलुओं पर बारीकी से काम करना शुरू किया।
हर पहलू की बारीकी से जांच
एयर इंडिया को खरीदने के लिए टाटा ग्रुप जमकर काम कर रहा है। बोली जमा करने से पहले टाटा ग्रुप ने एयर इंडिया के हर पहलू का बारीकी से निरीक्षण किया। इसके साथ ही उसके पिछले कामकाज, आमदनी और देनदारी के हर मसले की जांच की गई। बहुत से लोग अब भी आश्चर्यचकित हैं कि कर्ज में डूबी, कारोबार में नुकसान दर्ज करने वाली कंपनी को खरीदने में टाटा ग्रुप इतनी रुचि क्यों ले रहा है?
एयर इंडिया को टाटा समूह ने ही शुरू किया था। अब 68 साल बाद एक बार फिर एयर इंडिया टाटा समूह की झोली में आने की उम्मीद जगी है।
बेहतरीन टीम कर रही है काम
एयर इंडिया को खरीदने के लिए टाटा ने टाटा संस से सीनियर वीपी निपुण अग्रवाल के नेतृत्व में अपने बेहतरीन लोगों की एक टीम बनाई है। इसमें TCS, टाटा रियल्टी एंड इंफ्रा, टाटा स्टील, एयर एशिया इंडिया और विस्तारा के शीर्ष अधिकारी शामिल हैं। इसके साथ ही एयर इंडिया की संपत्ति और देनदारी का सही मूल्यांकन किया जा सके इसके लिए छह ग्लोबल कंसल्टेंट को नियुक्त किया गया है। इनमें सैन फ्रांसिस्को से लेकर सिंगापुर तक की कंपनियां शामिल है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *