चीन के साथ जारी तनाव के बीच ताइवान का ऐलान, साउथ चाइना सी में बढ़ाएगा सैन्य तैनाती

ताइपे। चीन के साथ जारी तनाव के बीच ताइवान ने साउथ चाइना सी में अपनी सैन्य तैनाती को बढ़ाने का ऐलान किया है। ताइवान के नव नियुक्त रक्षा मंत्री चियु कुओ-चेंग ने संसद को बताया है कि उनके देश ने हाल के दिनों में साउथ चाइना सी में अपनी ताकत को काफी बढ़ाया है। इसके अलावा अमेरिका से मिली संवेदनशील तकनीकी की मदद से ताइवान के पनडुब्बी बेड़े को और घातक बनाया जा रहा है। ट्रंप प्रशासन ने पिछले साल ताइवान को संवेदनशील पनडुब्बी प्रौद्योगिकी के निर्यात की मंजूरी दी थी।
चीन ने ताइवान के पास बढ़ाई सैन्य गतिविधियां
चीन शुरू से ही ताइवान के ऊपर अपना हक जताता आया है। यही कारण है कि चीनी सेना के वरिष्ठ जनरल से लेकर राजनेता तक ताइवान पर हमला कर कब्जा करने की धमकी दे चुके हैं। इस साल जनवरी में ही चीनी रक्षा मंत्रालय ने सख्त लहजे में कहा था कि ताइवान की स्वतंत्रता का ऐलान का मतलब ही युद्ध है। इस कारण चीन ने पिछले एक साल में ताइवान के आसपास अपनी सैन्य गतिविधियों को काफी तेज किया है। उधर, ताइवान ने भी अपने बचाव का संकल्प लेते हुए जंग की पूरी तैयारी की हुई है।
चीन के नजदीक वाले द्वीप पर ताइवान ने संभाला मोर्चा
पिछले महीने ही ताइवान के रक्षा मंत्री का पद संभालने वाले चियु कुओ-चेंग ने बुधवार को संसद में कहा कि साउथ चाइना सी में हमारे कब्जे वाले द्वीप इटू आबा पर सैन्यकर्मियों और हथियारों की तैनाती को बढ़ा दिया गया है। इटू आबा को ताइपिंग आईलैंड के नाम से भी जाना जाता है। यह स्प्रैटली द्वीप समूह में स्थित सबसे बड़े द्वीपों में से एक है। इस द्वीप की देखरेख ताइवानी कोस्टगार्ड करती है।
हमें युद्ध के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए
ताइवानी संसद के एक सदस्य ने सवाल किया कि क्या चीन ताइवान पर हमला कर सकता है? जिसके जवाब में ताइवान के नए रक्षा मंत्री चियु कुओ-चेंग ने कहा कि वे युद्ध शुरू करने में सक्षम हैं। हमारा लक्ष्य हर समय तैयार रहना है। उन्होंने कहा कि चीन के विस्तारवादी रवैये के कारण ताइवान ने इटू आबा द्वीप पर अपनी उपस्थिति को मजबूत कर रहा है। हालांकि, सेना यहां स्थायी सैन्य शिविर बनाने पर विचार नहीं कर रही है।
अटैक पनडुब्बियों से चीन को परेशान करेगा ताइवान
ताइवानी रक्षा मंत्री ने बताया कि अमेरिका से हमारे स्वदेशी पनडुब्बी बेड़े को घातक बनाने के लिए आवश्यक सभी संवेदनशील उपकरणों के लिए निर्यात परमिट को मंजूरी दी जा चुकी है। हमने आठ की संख्या में अटैक पनडुब्बियों का निर्माण पिछले साल नवंबर में शुरू किया था। इनका निर्माण 2024 तक पूरा होने की संभावना है। उन्होंने यह भी बताया कि अमेरिका में जो बाइडन के राष्ट्रपति बनने के बाद ताइवान के साथ रक्षा संबंधों पर कोई नकारात्मक असर नहीं पड़ा है।
साउथ चाइना सी में ताकत बढ़ा रहा चीन
चीन ने साउथ चाइना सी में कई आर्टिफिशियल द्वीपों का निर्माण किया है, जिनमें से कुछ पर मिलिट्री बेस और हवाई अड्डे भी बनाए गए हैं। इस पूरे क्षेत्र में चीन का वियतनाम, फिलीपींस, मलेशिया और ब्रुनेई के साथ विवाद है। इस बीच चीन ने ताइवान को लेकर अमेरिका को भी हदों को न लांघने को कहा है। चीनी संसद के अधिवेशन में कुछ दिन पहले ही विदेश मंत्री वांग यी ने जो बाइडन से डोनाल्ड ट्रंप की नीतियों को बदलने के लिए कहा था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *