गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल है दारू का यह अड्डा

निदा फ़ाज़ली का एक शेर है- ”कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई, आओ कहीं शराब पिएं

Read more