कभी थी बादशाहों की शिकारगाह, आज लोग कपड़े सुखा रहे हैं

द‍िल्‍ली के कंझावला से 4 किलोमीटर दूर जौंती गांव 17वीं शताब्दी के मुगलकालीन ऐतिहासिक इमारतों के लिए जाना जाता है।

Read more