इस दौर में पत्रकार, मतलब कमजोर की ‘जोरू’

कभी पत्रकार भी होते होंगे बाहुबली, लेकिन इस दौर में पत्रकार होना…मतलब कमजोर की ‘जोरू’। बीती 11 तारीख को लाल

Read more

आखिर TRP है क्‍या, और TV के लिए ये क्यों है इतनी अहम?

जब से TRP स्‍केम की बात सामने आई है तब से ये सवाल भी उठ रहा है कि आखिर TRP

Read more

अब जो चैनल पसंद हों, उन्‍हें ही देखिए और सिर्फ उन्‍हीं का पैसा दीजिए

नई दिल्ली। जो चैनल देखिए सिर्फ उसका ही पैसा दीजिए। सालों पहले डायरेक्ट टु होम (डीटीएच) सर्विस अपनाने को प्रेरित

Read more