सुशांत सिंह की बहन की याचिका सुप्रीम कोर्ट से खारिज

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत पिछले साल 14 जून को अपने घर में मृत पाए गए थे। इसके बाद मुंबई पुलिस ने अपनी जांच में इसे आत्महत्या बताया था। हालांकि सुशांत के पिता की शिकायत के बाद इस केस को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के हवाले कर दिया था। इस मामले में रिया चक्रवर्ती ने भी सुशांत की बहन प्रियंका सिंह और एक डॉक्टर के खिलाफ मुंबई पुलिस में एफआईआर दर्ज कराई थी। इस एफआईआर के खिलाफ सुशांत की बहन सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी थी जिसे अब कोर्ट ने खारिज कर दिया है।
हाई कोर्ट ने भी खारिज की थी सुशांत की बहन की याचिका
शुक्रवार को सुशांत की बहन की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया। इस याचिका में प्रियंका ने अपने खिलाफ रिया चक्रवर्ती की मुंबई पुलिस में दर्ज कराई एफआईआर को रद्द किए जाने की मांग की थी। इससे पहले प्रियंका ने रिया की एफआईआर पर बॉम्बे हाई कोर्ट में भी चुनौती दी थी। हालांकि वहां भी रिया की एफआईआर को रद्द किए जाने की याचिका खारिज कर दी गई थी। हालांकि हाई कोर्ट ने सुशांत की दूसरी बहन मीतू सिंह के खिलाफ एफआईआर को खारिज कर दिया था मगर प्रियंका सिंह और दिल्ली के एक डॉक्टर पर मामला दर्ज किए जाने की इजाजत दे दी थी।
क्या है रिया चक्रवर्ती की शिकायत
दरअसल सुशांत के निधन के बाद कुछ वॉट्सऐप चैट सामने आए थे जिससे यह पता चला था कि सुशांत की बहन प्रियंका जो दिल्ली में वकील हैं, उन्होंने अपने एक डॉक्टर दोस्त के जरिए फर्जी प्रिस्क्रिप्शन के आधार पर सुशांत को कुछ ऐसी दवाएं दी थीं जो मनोवैज्ञानिक बीमारियों में इस्तेमाल की जाती हैं। रिया ने आरोप लगाया है कि फर्जी प्रिस्क्रिप्शन पर मिली इन दवाओं के कारण सुशांत की मानसिक हालत बिगड़ गई जिसके कारण उन्होंने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली।
कई एजेंसी कर रही हैं सुशांत केस की जांच
अभी तक मुंबई पुलिस की जांच के बाद सुशांत के निधन की जांच सीबीआई, एनसीबी और ईडी जैसी केंद्रीय एजेंसी कर रही हैं। एनसीबी ने इस मामले में चार्जशीट दाखिल करते हुए रिया चक्रवर्ती सहित 33 लोगों को आरोपी बनाया है। रिया पर ड्रग सिंडिकेट का हिस्सा होने और सुशांत के लिए ड्रग्स खरीदने का आरोप लगाया गया है। ईडी को अभी तक अपनी जांच में रिया के खिलाफ कुछ नहीं मिला है जबकि सीबीआई अपनी जांच में किसी नतीजे तक नहीं पहुंची है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *